Articles by "Religious"

2019 4G LTE 4G VoLTE 5G 7th Pay Commission Aadhaar Aarogya Setu Actor Wallpapers Actress Wallpaper Adriana Lima AdSense Ahoi Ashtami Airtel Airtel DTH Akshay Kumar Alcatel Alexa Rank Amazon Android Android Pie Android Q Anna university Antivirus Anushka Sharma apna csc online Apple Apps Army Army App Asthma Asus Atal Seva mirchpur Athletics Auto Auto Insurance Avengers Axis Bank Backlinks Badhajmi Bajaj Bang Bang Reloaded Bank Battery Bhai Dooj Katha Bhakti Bharti Bhumi Pednekar Big Bazaar Big TV Bing BlackBerry Blogger BlogSpot Bluetooth BoB Bollywood Boot Boxing Breathlessness Browser BSEH Bsnl Budget Budhvar Business buy Cable TV Camera Car Car Loan Card Less ATM Cash CBSE Celebrity CEO Chandra Grahan Channels Chest Pain Chhath chrome Clean WhatsApp Cache Common Service Centres (CSC) Mirchpur Hisar Haryana - Front of Jyoti Sen Sec School Mirchpur Comparisons Computer Coolpad Corona Couples Chatting COVID 19 COVID 19 HARYANA Credit Cricket Crime CSC Cylinder Dama Dard Deepika Padukone Defence Detel Dhanteras Diamond Crypto DigiLocker App DigiPay App Digital India App Digital Indian Gov Dish TV Diwali DNS setting Domain Donate Doogee DTH DTH Activation DTH Installation DTH Plans in India Dusshera E-seva Kender mirchpur Earn Money Education Electronics Email Entertinment Ex-serviceman Extensions Facebook Fatigue Festivals FlicKr Flipkart Foldable Smartphone Food Foursquare Funny Gadgets Galaxy Galaxy S8 Game Ganesh ganesh chaturthi Gas Problems Gastric Problem Gharelu Gionee Gmail God Google Google + Google Assistant Google Drive Google Duo Google Pixel Google Tez Google Voice Google+ Govardhan Puja GroupMe GST GTA Guide GuruSatsang Guruvar Hamraaz hamraaz app hamraaz app download hamraaz army hamraaz army app hamraaz army app download Hamraaz Army App version 6 Apk Happy New Year Hariyali Teej Hartalika Teej Harvard University Haryana haryana csc online HDFC Bank Headphones Health Heart Attack Heart Fail Heart Problems Heart Stroke Heena Sidhu Hello App Help Hernia Hindi History Hockey Holi Holi Katha Hollywood Home Loan Honor HostGator Hosting Hrithik Roshan HTC Huawei humraaz app iBall IBM ICICI Bank Idea Ilaj India India Vs China Indian Army indian army app Indigestion Infinix InFocus Information Infosys Instagram Insurance Intel Internet Intex Mobile iPad iPhone iPhone 8 IPL IRCTC iVoomi Janmashtami Japanese Encephalitis Javascript JBL Jio Jio GigaFiber JioMart JioRail JioSaavn Jokes Kamjori Karbonn Kareena Kapoor Kartik Purnima Karva Chauth Karwa Chauth Kasam Tere Pyaar Ki Katrina Kaif Kendall Jenner Keywords Kimbho Kisan Kisan Panjikaran Kodak Kumkum Bhagya Kushth Rog Landline Laptop Lava Lenovo Leprosy LET Lethargy LG Library of Congress Lifestyle Linkedin Lisa Haydon Livejournal Liver Cancer Loans Lockdown LPG Gas mAadhaar Macbook Maha Shivratri Makar Sankranti Map Market Mary Kom Massachusetts Institute of Technology Meizu Messages Mi Micromax Microsoft Military Power 2020 Mobile Modi Mokshada Ekadashi Money Motorcycles Motorola Movie msn Muscle Pain Music Myspace Narendra Modi Narsingh Jayanti Nature Naukri Navratri Nemonia Netflix Network News Nexus Nia Sharma Nokia Notifications Nuskhe OBC Ocean Office Offrs Ola Cab OMG OnePlus Online Opera Oppo Oreo Android Orkut OS OxygenOS Padmavati PagalWorld Pain Pain Sensation Pakistan PAN PAN Card Panasonic Passwords Patanjali Pay Payment Paypal Paytm PC PDF Peeda Pendrive Pension Personal Loan Pet Me Gas PF Phone Photo PHP Pila Bukhar Pinterest Pixel Plan PNB Bank Pneumonia PNR Poco Poster PPC Pradhan Mantri Kisan Samman Nidhi Pradhanmantri Kisan Samman Nidhi Yojna Pradosh Pragya Jaiswal Prepaid Princeton University Printer Priyanka Chopra PUBG Qualcomm Quora Quotes Race 3 Railway Rambha Tritiya Vrat RBI Realme Recruitment Redmi Relationship Reliance Reliance JioMart Religious Restore Results Review Rule Sai Dharam Tej Saina Nehwal Salman Khan Samsung Sanusha Satsang Video Sawan Somvar Vrat SBI Bank Script Sell SEO Serial Server Shabd Shahid Kapoor Shanivar Sharad Poornima Sharp Shiv Shopping Shreyasi Singh Shruti Haasan Signal Sim Smart Android TV Smartphones SMS Snapchat Social Software Somvar Sonakshi Sinha Sonam Kapoor Soney Songs Sony Xperia Space Speakers Specifications Sports Sql Stanford University State Bank of India Stickers Stomach Upset Story Sun Direct Sunny Leone Surabhi Sushant Singh Rajput Swadeshi Swas Rog Tata Sky Tax tec Tech Tech DNA TechDNA Technology Tecno Telegram Telugu Thakan Tiger Shroff Tiger Zinda Hai Tips Tiredness Tollywood Tool Top Trending People Trading Trai TRAI Rules for cable TV Trailer Treatment Trends True Things Truecaller Tubelight Tulsi Vivah Tumblr Tunes App Tv Twitter Typing Uber ulta chand Umang App University of Oxford UP Board Upay Upchar Update USA USB Vacancies Valentines Day Verizon Vertu Viber Video Videocon d2h Videos Vijayadashami Viral Bukhar Viral Fever Virat Kohli Virgin Visas Vivo VLE Vodafone Voter Card VPN Vrat Katha Vrat Vidhi Wallpaper War Wayback Machine Weakness WhatsApp WhatsApp Cleaner WhatsApp Status WhatsApp stickers Wi-Fi WiFi Windows Windows 10 Wipro Wireless WordPress workstation WWE Xiaomi Xiaomi Mi 6 Yeh Hai Mohabbatein Yellow Fever Yo Yo Honey Singh Yoga YotaPhone YouTube ZTE अजब-गजब की खबरें अपच अस्थमा आलस्य इलाज उपचार उपाय उमंग ऐप कहानियाँ कुष्ठरोग कोरोना वायरस गुरुसत्संग घरेलू जनधन जापानी इन्सेफेलाइटिस डिजिटल इंडिया डिजिटल इंडिया अप्प्स डिजिपे ऐप डिजीलॉकर ऐप थकान दमा दर्द निमोनिया नुस्ख़े पीड़ा पीतज्वर पीला बुखार पेट में गैस पैन कार्ड बदहज़मी भक्ति मांसपेशियों में दर्द लीवर कैंसर वायरल बुखार वोटर कार्ड शब्द सच्ची बातें सत्संग वीडियो समचार सीने में दर्द स्कीम स्वास रोग हर्निया हिंदी
Showing posts with label Religious. Show all posts

India will celebrate the festival of Diwali 2018 in two days. Diwali 2018, or Deepavali 2018, is the festival that celebrates the victory of good over evil, knowledge over ignorance. Diwali or Deepavali is celebrated in honour of Lord Ram's return to Ayodhya after an exile of fourteen years. Diwali 2018 is also linked to Goddess Lakshmi - the goddess of wealth and prosperity. Also known as the Festival of Lights, Diwali 2018 is traditionally celebrated by lighting diyas and candles, praying to Goddess Lakshmi and Lord Ganesh and meeting friends and family to exchange Diwali 2018 greetings and gifts.
Diwali 2018 will be celebrated on November 7.

Happy Diwali 2018: Diwali Messages, Wishes, SMS, Images And Facebook Greetings

diwali wishes,happy diwali,diwali,diwali 2018,diwali status,happy diwali video,diwali song,diwali sms,happy diwali song,diwali wishes song,diwali wishes 2018,diwali special,happy diwali wishes,happy diwali 2018,diwali whatsapp video,diwali images,diwali songs,diwali greetings,diwali wallpapers,diwali e-greetings,happy diwali status,diwali facebook,diwali whatsapp status,diwali whatsapp video message,diwali celebration
diwali wishes,happy diwali,diwali,diwali 2018,diwali status,happy diwali video,diwali song,diwali sms,happy diwali song,diwali wishes song,diwali wishes 2018,diwali special,happy diwali wishes,happy diwali 2018,diwali whatsapp 

To ensure that you wish all your near and dear ones a Happy Diwali 2018, we rounded up some Diwali SMSes, wishes, WhatsApp messages and Facebook greetings that you can send them to celebrate Diwali 2018.

Here are some Happy Diwali 2018 wishes, Diwali 2018 Whatsapp messages and Diwali 2018 images for your friends and family:
Let's make this Diwali joyous and bright,
Let's celebrate in true sense this festival of light.
Happy Diwali
Happy Diwali 2018: Diwali Messages, Wishes, SMS, Images And Facebook Greetings
Happy Diwali 2018: Diwali Messages, Wishes, SMS, Images And Facebook Greetings

A festival full of sweet childhood memories,
A sky full of lights,
Mouth full of sweets,
And heart full of joy.
Wishing You All A Very Happy Diwali!
,diwali wishes sms,diwali 2017,diwali messages,diwali video,diwali 2018,happy diwali messages,happy diwali video,diwali message,diwali messages in hindi,diwali messages in english,happy diwali wishes,diwali status,diwali whatsapp video message,diwali crackers,diwali festival
diwali messages in english,happy diwali wishes,diwali status,diwali whatsapp video message,diwali crackers,diwali festival

May the light of the diyas guide you on the way to happiness and success. Happy Diwali to you and your family!
,diwali wishes sms,diwali 2017,diwali messages,diwali video,diwali 2018,happy diwali messages,happy diwali video,diwali message,diwali messages in hindi,diwali messages in english,happy diwali wishes,diwali status,diwali whatsapp video message,diwali crackers,diwali festival
,diwali wishes sms,diwali 2017,diwali messages,diwali video,diwali 2018,happy diwali messages,happy diwali video,diwali message,diwali messages in hindi

May the joyous celebration
Of this divine festival
Fill your heart with
Never ending joy and happiness!
Happy Diwali

With Gleam of Diyas,
And the Echo of the Chants,
May Happiness and Contentment Fill Your life!
Wishing you a very happy and prosperous Diwali!
happy diwali,diwali wishes,diwali,diwali greetings,diwali messages in english for corporates,diwali whatsapp video,diwali wishes quotes,diwali wishes sms,diwali 2017,diwali messages,diwali video,diwali 2018,happy diwali messages,happy diwali video,diwali message,diwali messages in hindi,diwali messages in english,happy diwali wishes,diwali status,diwali whatsapp video message,diwali crackers,diwali festival
happy diwali,diwali wishes,diwali,diwali greetings,diwali messages in english for corporates,diwali whatsapp video,diwali wishes quotes

May the beauty of Deepavali fill your home with happiness, and may the coming year provide you with everything that brings you joy!

Let's make this Diwali joyous and bright,
Let's celebrate in true sense this festival of light.
Happy Diwali

The festival of lights is just around the corner. The sweetmeat shops are full of traditional favourites, and the market places are brimming with all things festive. From fairy lights to the fancy Diwali hampers, Diwali preparations have indeed begun in full swing, and we can barely contain our excitement. This year Diwali would be celebrated on 7th November, 2018. Diwali is preceded and followed by number of festivals. Govardhan Puja is celebrated just a day after Diwali. This year Govardhan Puja falls on 8th November, 2018. The festival is celebrated with immense fervour and gaiety in Hindu households, especially the ones who are great followers of Lord Krishna. Lord Krishna is also called Govardhan dhari. The puja is tied to the great legend of Krishna and mount Govardhan. Here's how the Puja is celebrated. 

Govardhan Puja 2018: Date, Significance, Puja Timings and Prasad To Offer in Govardhan Puja

Govardhan Puja 2018: Date, Significance, Puja Timings and Prasad To Offer in Govardhan Puja
Govardhan Puja 2018: Date, Significance, Puja Timings and Prasad To Offer in Govardhan Puja

Govardhan Puja 2018: Govardhan Puja Date and Time 

Govardhan Puja is also referred to as the Annakut Puja by the devotees.
This year, Govardhan Puja would be celebrated on 8th November, 2018. 

Govardhan Puja Pratahkal Muhurat = 6:45 AM to 08:57 AM
Govardhan Puja Sayankal Muhurat = 3:32 PM to 5:43 PM
Pratipada Tithi Begins = 9:31 PM on 7/Nov/2018
Pratipada Tithi Ends = 9:07 PM on 8/Nov/2018 (Source: Drikpanchang.com)

 Govardhan Puja 2018: Significance and History of Govardhan Puja or Annakut Puja

According to the scriptures, the people of Vrindawan used to offer lavish meals to Lord Indra-The God of rain and storm, to make sure he blesses them with timely rainfall and good harvest. Little Krishna found the practice to be too harsh for the small-time farmers, and convinced them to stop making these offerings to Lord Indra and feed their families instead. On not finding his ritualistic offerings, Indra sent down rain and thunderstorm out of anger in Vrindawan. The rains continued for days.
Fearing for their lives, the villagers approached Krishna for help who then asked everyone to proceed to the Govardhan hill. Once there, he lifted the whole hill with his little finger, people trickled under the hill to take shelter from the storm. 

Krishna stood there for seven days, holding the mountain on his little finger without moving. Ultimately Indra had to bow to the might of Krishna and stop the rains. Post this episode, women of Vrindawan cooked 56 dishes for Krishna. It is said that Krishna took 8 meals in a day. Since he stood for seven days without a single morsel of food, the women decided to make up for it with a lavish chappan bhog (a meal consisting 56 items like halwa, ladoos, mishri and peda). 

On this auspicious day, several pilgrims go to the Govardhan hill and offer food and delicacies to Lord Krishna. Those who cannot go to the Govardhan hill, offer him the bhog of 56 items in their homes. Devotees celebrate Govardhan pooja by literally offering a mountain of food to Lord Krishna called Annakoot. Some of the common items found in the chappan bhog are makhan misri, kheer, rasgulla,jeera ladoo, jalebi, rabri, mathri, malpua, mohan bhog, chutney, murabba, saag, dahi, rice, dal, kadhi, ghewar, chila, papad, moong dal ka halwa, pakoda, khichadi etc.
There is also a common ritual of making small mounds of cow dung to represent Govardhan Mountain, which is then beautifully decorated with flowers.

Here's wishing all of you a very Happy Govardhan Puja! 

Diwali is one of the most important festival celebrated by Hindus all around the world. Diwali 2018 will be celebrated on 7th November in most parts of India, and on 6th November in the South Indian states of Karnataka, Kerala and Tamil Nadu. Hindu residents of Singapore will also celebrate Diwali along with these three states on November 6th, 2018. The festival and its celebrations usually last for five days, among which the third day is the main day. During all the five days of Dhanteras, Chhoti Diwali, Badi Diwali, Govardhan Pooja and Bhai Dooj, houses, temples and public places are all lit up with lights and earthen lamps. The themes of 'victory of good over evil' and 'victory of light over dark' are associated with the festival. The festival falls in the month of Karthik, according to Hindu calendar. According to the Gregorian calendar, the festival falls during the months of either October or November.

Also referred to as the festival of lights or Deepavali, Diwali celebrations have evolved in countless ways over the years. It is considered auspicious to buy new goods during the days preceding Diwali. Hindus are busy cleaning and renovating their houses and repairing furniture. People also paint their houses and rooms in new colours and purchase new home appliances, clothes and other things in the run up to Diwali. The third day of the five-day festival marks its climax and is a public holiday in the Indian subcontinent.

Diwali 2018: Dates, Calender, Lakshmi Puja Muhurat and Special Foods Served On Deepavali

Diwali 2018: Dates, Calender, Lakshmi Puja Muhurat and Special Foods Served On Deepavali
Diwali 2018: Dates, Calender, Lakshmi Puja Muhurat and Special Foods Served On Deepavali

Importance Of Diwali

Diwali is a word that has been derived from the Sanskrit word Deepavali, which means a "row or a string of lights". The word is a conjugation of "deepa" or an earthen lamp and "vali" or a continuous row or series of something. The festival falls during the beginning of autumn and at the end of summer harvest. Diwali coincides with the darkest day of the year, also known as Amavasya. This day is the darkest of Hindu lunisolar calendar. Although the festival has been known as a predominantly Hindu festival, it's also celebrated by Jains, Sikhs and Newar Buddhists. However, the day marks different historical events and stories for all these religions.

The significance of Diwali varies regionally within India, with people worshipping different deities on the day and following different traditions. One of the most well-known traditions of Diwali is associated with the Hindu epic of Ramayana. This tradition celebrates the victory of the King of Ayodhya, Ram, over the demon king Ravana of the kingdom of Lanka. Diwali is the day when Ram, Sita, Lakshman and Hanuman, returned to Ayodhya, after a period of 14 years of exile. Legend has it that the kingdom had lit up with lamps, with people rejoicing and celebrating the return of the righteous heir to the throne.

Here are the dates for all the five days of Diwali 2018 and a day-wise significance:

1. Dhanteras 2018

Dhanteras will be celebrated on November 5th, 2018 this year. This is the day that most people go out to buy new things like utensils, gold coins and jewellery. Houses and offices are cleaned and decorated with earthen lamps and artificial lights.

2. Chhoti Diwali 2018

This day is also known as Narak Chaturdashi, but is commonly known as chhoti Diwali. Falling on November 6th 2018 this year, this is a major day for purchasing sweets made from various ingredients for guests, friends and family. Halwais or sweetmeat makers work over time to meet the increased demand for sweets like laddos, halwas and more, during the run up to this day. Families are also busy preparing homemade delicacies for the guests who visit on the main day of the festival, that is, Diwali.

3. Diwali 2018

This is the main day during the five-day festival and is also known as the day of Lakshmi Pujan. This is because Goddess Lakshmi, who is the Goddess of wealth and prosperity, is worshipped on this day. The muhurat or auspicious timing for conducting Lakshmi Pujan this year is between 5.57 pm and 7.53 pm on November 7th, 2018. During this time, the family gets together and recite prayers and sing holy songs in unison. After the conclusion of the prayers, everyone takes blessings from the holy flame and indulges in sweets. This is the time to meet and greet with friends, family and relatives and exchange gifts and sweets.

4. Govardhan Puja 2018

This is the day right after Diwali and this year it will be celebrated on November 8th, 2018. This day celebrates the unique bond between husband and wife and in some Indian regions, this is the day when husbands give gifts to their wives. In yet other regions, parents invite their newly married sons or daughters along with their spouses to a family meal and bless the couple with gifts.

5. Bhai Duj 2018

Bhaiya Duj or Bhau Beej is the last day of the five-day festival and this year, it will be celebrated on November 9th, 2018. This day celebrates the bond between brothers and sisters. On this day, the brother travels to his sister's house and the 'tilak' ritual involves the sister decorating her brother's forehead with a round of vermillion. The day is similar in spirit with another Hindu festival of Rakshabandhan.

Diwali 2018: Special Foods and Sweets

Diwali is a festival of indulgence and it's hard to resist the wide variety of sweets and delicacies that flood the markets, around this time. It's customary to keep a plateful of dry fruits, nuts and some sweets ready for when guests come home and offer the same to them. Food is central to Diwali celebrations and people start preparing to make a number of sweets and savouries to serve to their guests on Diwali evening. Along with bursting of crackers and exchanging sweets, eating mithais made in pure desi ghee and mava is an indelible part of Diwali.

The kind of traditional sweet and savoury foods cooked during Diwali varies from region to region. But what doesn't change in Diwali feasts across the country is the level of richness in all the foods on offer.

Happy Diwali 2018!

It's only been a few days since we concluded our Dussehra and Durga Puja celebrations, but the nation has no time to pause and breathe it seems. Why, you ask? Because Diwali 2018 is just around the corner! This year Diwali would be celebrated on 7th November, 2018. But before the festival of lights, there awaits a line of other festivals too, the preparations of which have also begun in full swing. The auspicious day of Dhanteras falls on 5th November this year, and Choti Diwali would be celebrated on 6th November, 2018. Choti Diwali is also known as Naraka Chaturdashi and falls on Chaturdashi (fourteenth day) of the Krishna Paksha in the Vikram Samvat Hindu Calendar month of Kartik. Read to know why the festival holds such immense significance in Hindu faith. 

Choti Diwali 2018: Choti Diwali Date, Puja Time, Significance And Foods To Celebrate With

Choti Diwali 2018: Choti Diwali Date, Puja Time, Significance And Foods To Celebrate With
Choti Diwali 2018: Choti Diwali Date, Puja Time, Significance And Foods To Celebrate With


Choti Diwali, Naraka Chaturdashi Puja Time

Abhyang Snan Muhurta = 05:08 AM to 06:44 AM
Chaturdashi Tithi Begins = 11:46 PM on 5/Nov/2018
Chaturdashi Tithi Ends = 10:27 PM on 6/Nov/2018

Choti Diwali 2018: Significance and History of the Naraka Chaturdashi

Choti Diwali is celebrated a day before Diwali. In many parts of the country, the festival is celebrated as Naraka Chaturdashi. It was named after the great battle of Narakasura and Lord Krishna. According to scriptures, the demon king had held 16,000 girls in his cruel hostage. Lord Krishna defeated the demon and relieved the girls from his rule. Since the girls were unsure of their future and acceptance in the society, they went to Lord Krishna for advice. Lord Krishna and his wife Queen Satyabhama, decided that they should all marry Lord Krishna and be recognised as his wives.  

On Choti Diwali, many people perform Abhyang Snan or take a bath in the holy Ganges River. According to scriptures, taking the holy dip could absolve a person of his previous sins and he/she could be saved from going to Naraka or hell. Til or sesame oil is used for ubtan or a special face mask that is applied during the holy bath. After the bath, people deck up in new clothes and enjoy a sumptuous breakfast. In Maharashtrian households, puran poli and misal pav preparations are very famous.

शनिवार व्रत कथा Vrat-katha Shanivar
अग्नि पुराण के अनुसार शनि ग्रह की से मुक्ति के लिए "मूल" नक्षत्र युक्त शनिवार से आरंभ करके सात शनिवार शनिदेव की पूजा करनी चाहिए और व्रत करना चाहिए। 

व्रत कथाएक समय में स्वर्गलोक में सबसे बड़ा कौन के प्रश्न पर नौ ग्रहों में वाद-विवाद हो गया। निर्णय के लिए सभी देवता देवराज इन्द्र के पास पहुंचे और बोले- हे देवराज, आपको निर्णय करना होगा कि हममें से सबसे बड़ा कौन है? देवताओं का प्रश्न सुन इन्द्र उलझन में पड़ गए, फिर उन्होंने सभी को पृथ्वीलोक में राजा विक्रमादित्य के पास चलने का सुझाव दिया।
सभी ग्रह भू-लोक राजा विक्रमादित्य के दरबार में पहुंचे। जब ग्रहों ने अपना प्रश्न राजा विक्रमादित्य से पूछा तो वह भी कुछ देर के लिए परेशान हो उठे क्योंकि सभी ग्रह अपनी-अपनी शक्तियों के कारण महान थे। किसी को भी छोटा या बड़ा कह देने से उनके क्रोध के प्रकोप से भयंकर हानि पहुंच सकती थी। 
अचानक राजा विक्रमादित्य को एक उपाय सूझा और उन्होंने विभिन्न धातुओं जैसे सोना, चांदी, कांसा, तांबा, सीसा, रांगा, जस्ता, अभ्रक लोहे के नौ आसन बनवाएं। सबसे आगे सोना और सबसे पीछे लोहे का आसन रखा गया। उन्होंने सभी देवताओं को अपने-अपने आसन पर बैठने को कहा। उन्होंने कहा- जो जिसका आसन हो ग्रहण करें, जिसका आसन पहले होगा वह सबसे बड़ा तथा जिसका बाद में होगा वह सबसे छोटा होगा। 

चूंकि लोहे का आसन सबसे पीछे था इसलिए शनिदेव समझ गए कि राजा ने मुझे सबसे छोटा बना दिया है। इस निर्णय से शनि देव रुष्ट होकर बोले- हे राजन, तुमने मुझे सबसे पीछे बैठाकर मेरा अपमान किया है। तुम मेरी शक्तियों से परिचित नहीं हो।सूर्य एक राशि पर एक महीने, चन्द्रमा दो महीने दो दिन, मंगल डेढ़ महीने, बुध और शुक्र एक महीने, बृहस्पति तेरह महीने रहते हैं, लेकिन मैं किसी भी राशि पर ढ़ाई वर्ष से लेकर साढ़े सात वर्ष तक रहता हूं। बड़े-बड़े देवताओं को मैंने अपने प्रकोप से पीड़ित किया है अब तू भी मेरे प्रकोप से सावधान रहना। 
इस पर राजा विक्रमादित्य बोले- जो कुछ भाग्य में होगा देखा जाएगा। 
इसके बाद अन्य ग्रहों के देवता तो प्रसन्नता के साथ चले गए, परन्तु शनिदेव बड़े क्रोध के साथ वहां से विदा हुए। कुछ समय बाद जब राजा विक्रमादित्य पर साढ़े साती की दशा आई तो शनिदेव ने घोड़े के व्यापारी का रूप धारण किया और बहुत से घोड़ों के साथ विक्रमादित्य की नगर पहुंचे। राजा विक्रमादित्य उन घोड़ों को देखकर एक अच्छे-से घोड़े को अपनी सवारी के लिए चुनकर उस पर चढ़े। राजा जैसे ही उस घोड़े पर सवार हुए वह बिजली की गति से दौड़ पड़ा। तेजी से दौड़ता हुआ घोड़ा राजा को दूर एक जंगल में ले गया और फिर वहां राजा को गिराकर गायब हो गया। राजा अपने नगर लौटने के लिए जंगल में भटकने लगा पर उसे कोई रास्ता नहीं मिला। राजा को भूख प्यास लग आई। बहुत घूमने पर उन्हें एक चरवाहा मिला। राजा ने उससे पानी मांगा। पानी पीकर राजा ने उस चरवाहे को अपनी अंगूठी दे दी और उससे रास्ता पूछकर जंगल से निकलकर पास के नगर में चल दिए। 

नगर पहुंच कर राजा एक सेठ की दुकान पर बैठ गए। राजा के कुछ देर दुकान पर बैठने से सेठ की बहुत बिक्री हुई। सेठ ने राजा को भाग्यवान समझा और उसे अपने घर भोजन पर ले गया। सेठ के घर में सोने का एक हार खूंटी पर लटका हुआ था। राजा को उस कमरे में छोड़कर सेठ कुछ देर के लिए बाहर चला गया। तभी एक आश्चर्यजनक घटना घटी। राजा के देखते-देखते खूंटी सोने के उस हार को निगल गई। सेठ ने जब हार गायब देखा तो उसने चोरी का संदेह राजा पर किया और अपने नौकरों से कहा कि इस परदेशी को रस्सियों से बांधकर नगर के राजा के पास ले चलो। राजा ने विक्रमादित्य से हार के बारे में पूछा तो उन्होंने बताया कि खूंटी ने हार को निगल लिया। इस पर राजा क्रोधित हुए और उन्होंने चोरी करने के अपराध में विक्रमादित्य के हाथ-पांव काटने का आदेश दे दिया। सैनिकों ने राजा विक्रमादित्य के हाथ-पांव काट कर उन्हें सड़क पर छोड़ दिया।

कुछ दिन बाद एक तेली उन्हें उठाकर अपने घर ले गया और उसे कोल्हू पर बैठा दिया। राजा आवाज देकर बैलों को हांकता रहता। इस तरह तेली का बैल चलता रहा और राजा को भोजन मिलता रहा। शनि के प्रकोप की साढ़े साती पूरी होने पर वर्षा ऋतु प्रारंभ हुई। एक रात विक्रमादित्य मेघ मल्हार गा रहा था, तभी नगर की राजकुमारी मनभावनी रथ पर सवार उस घर के पास से गुजरी। उसने मल्हार सुना तो उसे अच्छा लगा और दासी को भेजकर गाने वाले को बुला लाने को कहा। दासी लौटकर राजकुमारी को अपंग राजा के बारे में सब कुछ बता दिया। राजकुमारी उसके मेघ मल्हार से बहुत मोहित हुई और सब कुछ जानते हुए भी उसने अपंग राजा से विवाह करने का निश्चय किया।

राजकुमारी ने अपने माता-पिता से जब यह बात कही तो वह हैरान रह गए। उन्होंने उसे बहुत समझाया पर राजकुमारी ने अपनी जिद नहीं छोड़ी और प्राण त्याग देने का निश्चय कर लिया। आखिरकार राजा-रानी को विवश होकर अपंग विक्रमादित्य से राजकुमारी का विवाह करना पड़ा। विवाह के बाद राजा विक्रमादित्य और राजकुमारी तेली के घर में रहने लगे। उसी रात स्वप्न में शनिदेव ने राजा से कहा- राजा तुमने मेरा प्रकोप देख लिया। मैंने तुम्हें अपने अपमान का दंड दिया है। राजा ने शनिदेव से क्षमा करने को कहा और प्रार्थना की- हे शनिदेव, आपने जितना दुःख मुझे दिया है, अन्य किसी को न देना।
शनिदेव ने कहा- राजन, मैं तुम्हारी प्रार्थना स्वीकार करता हूं। जो कोई स्त्री-पुरुष मेरी पूजा करेगा, कथा सुनेगा, जो नित्य ही मेरा ध्यान करेगा, चींटियों को आटा खिलाएगा वह सभी प्रकार के कष्टों से मुक्त होता रहेगा तथा उसके सब मनोरथ पूर्ण होंगे। यह कहकर शनिदेव अंतर्ध्यान हो गए। 
प्रातःकाल राजा विक्रमादित्य की नींद खुली तो अपने हाथ-पांव देखकर राजा को बहुत खुशी हुई। उन्होंने मन ही मन शनिदेव को प्रणाम किया। राजकुमारी भी राजा के हाथ-पांव सलामत देखकर आश्चर्य में डूब गई। तब राजा विक्रमादित्य ने अपना परिचय देते हुए शनिदेव के प्रकोप की सारी कहानी सुनाई।

इधर सेठ को जब इस बात का पता चला तो दौड़ता हुआ आया और राजा विक्रमादित्य के चरणों में गिरकर क्षमा मांगने लगा। राजा विक्रमादित्य ने उसे क्षमा कर दिया क्योंकि वह जानते थे कि यह सब तो शनिदेव के प्रकोप के कारण हुआ था। सेठ राजा विक्रमादित्य को पुन: को अपने घर ले गया और उसे भोजन कराया। भोजन करते समय वहां एक आश्चर्य घटना घटी। सबके देखते-देखते उस खूंटी ने हार उगल दिया। सेठ ने अपनी बेटी का विवाह भी राजा के साथ कर दिया और बहुत से स्वर्ण आभूषण, धन आदि देकर राजा को विदा किया।

राजा विक्रमादित्य राजकुमारी मनभावनी और सेठ की बेटी के साथ अपने नगर वापस पहुंचे तो नगरवासियों ने हर्ष के साथ उनका स्वागत किया। अगले दिन राजा विक्रमादित्य ने पूरे राज्य में घोषणा कराई कि शनिदेव सब ग्रहों में सर्वश्रेष्ठ हैं। प्रत्येक स्त्री-पुरुष शनिवार को उनका व्रत करें और व्रतकथा अवश्य सुनें। राजा विक्रमादित्य की घोषणा से शनिदेव बहुत प्रसन्न हुए। शनिवार का व्रत करने और व्रत कथा सुनने से शनिदेव की अनुकंपा बनी रहती है और जातक के सभी दुख दूर होते हैं।

शुक्रवार व्रत कथा shukravar vrat katha
शुक्रवार के दिन मां संतोषी का व्रत-पूजन किया जाता है। इस पूजा के अंत में माता की कथा सुनी जाती है। संतोषी माता और शुक्रवार व्रत की कथा निम्न है: 


संतोषी माता व्रत कथा (Santoshi Mata Vrat Katha in Hindi)

एक बुढ़िया थी, उसके सात बेटे थे। 6 कमाने वाले थे जबकि एक निक्कमा था। बुढ़िया छहों बेटों की रसोई बनाती, भोजन कराती और उनसे जो कुछ जूठन बचती वह सातवें को दे देती। एक दिन वह पत्नी से बोला- देखो मेरी मां को मुझ पर कितना प्रेम है। वह बोली- क्यों नहीं, सबका झूठा जो तुमको खिलाती है। वह बोला- ऐसा नहीं हो सकता है। मैं जब तक आंखों से न देख लूं मान नहीं सकता। बहू हंस कर बोली- देख लोगे तब तो मानोगे।
कुछ दिन बाद त्यौहार आया। घर में सात प्रकार के भोजन और चूरमे के लड्डू बने। वह जांचने को सिर दुखने का बहाना कर पतला वस्त्र सिर पर ओढ़े रसोई घर में सो गया। वह कपड़े में से सब देखता रहा। छहों भाई भोजन करने आए। उसने देखा, मां ने उनके लिए सुन्दर आसन बिछा नाना प्रकार की रसोई परोसी और आग्रह करके उन्हें जमाया। वह देखता रहा। छहों भोजन करके उठे तब मां ने उनकी झूठी थालियों में से लड्डुओं के टुकड़े उठाकर एक लड्डू बनाया। जूठन साफ कर बुढ़िया मां ने उसे पुकारा- बेटा, छहों भाई भोजन कर गए अब तू ही बाकी है, उठ तू कब खाएगा। वह कहने लगा- मां मुझे भोजन नहीं करना, मैं अब परदेश जा रहा हूं। मां ने कहा- कल जाता हो तो आज चला जा। वह बोला- हां आज ही जा रहा हूं। यह कह कर वह घर से निकल गया।
सातवें बेटे का परदेश जाना 

चलते समय पत्नी की याद आ गई। वह गौशाला में कण्डे (उपले) थाप रही थी। वहां जाकर बोला- हम जावे परदेश आवेंगे कुछ काल, तुम रहियो संतोष से धर्म आपनो पाल। वह बोली- जाओ पिया आनन्द से हमारो सोच हटाय, राम भरोसे हम रहें ईश्वर तुम्हें सहाय। दो निशानी आपन देख धरूं में धीर, सुधि मति हमारी बिसारियो रखियो मन गम्भीर। वह बोला- मेरे पास तो कुछ नहीं, यह अंगूठी है सो ले और अपनी कुछ निशानी मुझे दे। वह बोली- मेरे पास क्या है, यह गोबर भरा हाथ है। यह कह कर उसकी पीठ पर गोबर के हाथ की थाप मार दी। वह चल दिया, चलते-चलते दूर देश पहुंचा।

परदेश में नौकरी 

वहां एक साहूकार की दुकान थी। वहां जाकर कहने लगा- भाई मुझे नौकरी पर रख लो। साहूकार को जरूरत थी, बोला- रह जा। लड़के ने पूछा- तनखा क्या दोगे। साहूकार ने कहा- काम देख कर दाम मिलेंगे। साहूकार की नौकरी मिली, वह सुबह 7 बजे से 10 बजे तक नौकरी बजाने लगा। कुछ दिनों में दुकान का सारा लेन-देन, हिसाब-किताब, ग्राहकों को माल बेचना सारा काम करने लगा। साहूकार के सात-आठ नौकर थे, वे सब चक्कर खाने लगे, यह तो बहुत होशियार बन गया। सेठ ने भी काम देखा और तीन महीने में ही उसे आधे मुनाफे का हिस्सेदार बना लिया। वह कुछ वर्ष में ही नामी सेठ बन गया और मालिक सारा कारोबार उसपर छोड़कर चला गया।

पति की अनुपस्थिति में सास का अत्याचार 

इधर उसकी पत्नी को सास ससुर दु:ख देने लगे, सारी गृहस्थी का काम कराके उसे लकड़ी लेने जंगल में भेजते। इस बीच घर के आटे से जो भूसी निकलती उसकी रोटी बनाकर रख दी जाती और फूटे नारियल की नारेली में पानी। एक दिन वह लकड़ी लेने जा रही थी, रास्ते में बहुत सी स्त्रियां संतोषी माता का व्रत करती दिखाई दी।

संतोषी माता का व्रत 

 वह वहां खड़ी होकर कथा सुनने लगी और पूछा- बहिनों तुम किस देवता का व्रत करती हो और उसके करने से क्या फल मिलता है। यदि तुम इस व्रत का विधान मुझे समझा कर कहोगे तो मैं तुम्हारा बड़ा अहसान मानूंगी। तब उनमें से एक स्त्री बोली- सुनो, यह संतोषी माता का व्रत है। इसके करने से निर्धनता, दरिद्रता का नाश होता है और जो कुछ मन में कामना हो, सब संतोषी माता की कृपा से पूरी होती है। तब उसने उससे व्रत की विधि पूछी।

संतोषी माता व्रत विधि 

वह बोली- सवा आने का गुड़ चना लेना, इच्छा हो तो सवा पांच आने का लेना या सवा रुपए का भी सहूलियत के अनुसार लाना। बिना परेशानी और श्रद्धा व प्रेम से जितना भी बन पड़े सवाया लेना। प्रत्येक शुक्रवार को निराहार रह कर कथा सुनना, इसके बीच क्रम टूटे नहीं, लगातार नियम पालन करना, सुनने वाला कोई न मिले तो धी का दीपक जला उसके आगे या जल के पात्र को सामने रख कर कथा कहना। जब कार्य सिद्ध न हो नियम का पालन करना और कार्य सिद्ध हो जाने पर व्रत का उद्यापन करना। तीन मास में माता फल पूरा करती है। यदि किसी के ग्रह खोटे भी हों, तो भी माता वर्ष भर में कार्य सिद्ध करती है, फल सिद्ध होने पर उद्यापन करना चाहिए बीच में नहीं। उद्यापन में अढ़ाई सेर आटे का खाजा तथा इसी परिमाण से खीर तथा चने का साग करना। आठ लड़कों को भोजन कराना, जहां तक मिलें देवर, जेठ, भाई-बंधु के हों, न मिले तो रिश्तेदारों और पास-पड़ोसियों को बुलाना। उन्हें भोजन करा यथा शक्ति दक्षिणा दे माता का नियम पूरा करना। उस दिन घर में खटाई न खाना। यह सुन बुढ़िया के लड़के की बहू चल दी।

व्रत का प्रण करना और मां संतोषी का दर्शन देना 

रास्ते में लकड़ी के बोझ को बेच दिया और उन पैसों से गुड़-चना ले माता के व्रत की तैयारी कर आगे चली और सामने मंदिर देखकर पूछने लगी- यह मंदिर किसका है। सब कहने लगे संतोषी माता का मंदिर है, यह सुनकर माता के मंदिर में जाकर चरणों में लोटने लगी। दीन हो विनती करने लगी- मां मैं निपट अज्ञानी हूं, व्रत के कुछ भी नियम नहीं जानती, मैं दु:खी हूं। हे माता जगत जननी मेरा दु:ख दूर कर मैं तेरी शरण में हूं। माता को दया आई - एक शुक्रवार बीता कि दूसरे को उसके पति का पत्र आया और तीसरे शुक्रवार को उसका भेजा हुआ पैसा आ पहुंचा। यह देख जेठ-जिठानी मुंह सिकोडऩे लगे। लड़के ताने देने लगे- काकी के पास पत्र आने लगे, रुपया आने लगा, अब तो काकी की खातिर बढ़ेगी। बेचारी सरलता से कहती- भैया कागज आवे रुपया आवे हम सब के लिए अच्छा है। ऐसा कह कर आंखों में आंसू भरकर संतोषी माता के मंदिर में आ मातेश्वरी के चरणों में गिरकर रोने लगी। मां मैंने तुमसे पैसा कब मांगा है। मुझे पैसे से क्या काम है। मुझे तो अपने सुहाग से काम है। मैं तो अपने स्वामी के दर्शन मांगती हूं। तब माता ने प्रसन्न होकर कहा-जा बेटी, तेरा स्वामी आयेगा। यह सुनकर खुशी से बावली होकर घर में जा काम करने लगी। अब संतोषी मां विचार करने लगी, इस भोली पुत्री को मैंने कह तो दिया कि तेरा पति आयेगा लेकिन कैसे? वह तो इसे स्वप्न में भी याद नहीं करता। उसे याद दिलाने को मुझे ही जाना पड़ेगा। इस तरह माता जी उस बुढ़िया के बेटे के पास जा स्वप्न में प्रकट हो कहने लगी- साहूकार के बेटे, सो रहा है या जागता है। वह कहने लगा- माता सोता भी नहीं, जागता भी नहीं हूं कहो क्या आज्ञा है? मां कहने लगी- तेरे घर-बार कुछ है कि नहीं। वह बोला- मेरे पास सब कुछ है मां-बाप है बहू है क्या कमी है। मां बोली- भोले पुत्र तेरी बहू घोर कष्ट उठा रही है, तेरे मां-बाप उसे परेशानी दे रहे हैं। वह तेरे लिए तरस रही है, तू उसकी सुध ले। वह बोला- हां माता जी यह तो मालूम है, परंतु जाऊं तो कैसे? परदेश की बात है, लेन-देन का कोई हिसाब नहीं, कोई जाने का रास्ता नहीं आता, कैसे चला जाऊं? मां कहने लगी- मेरी बात मान, सवेरे नहा धोकर संतोषी माता का नाम ले, घी का दीपक जला दण्डवत कर दुकान पर जा बैठ।
देखते-देखते सारा लेन-देन चुक जाएगा, जमा का माल बिक जाएगा, सांझ होते-होते धन का भारी ठेर लग जाएगा। अब बूढ़े की बात मानकर वह नहा धोकर संतोषी माता को दण्डवत धी का दीपक जला दुकान पर जा बैठा। थोड़ी देर में देने वाले रुपया लाने लगे, लेने वाले हिसाब लेने लगे। कोठे में भरे सामान के खरीददार नकद दाम दे सौदा करने लगे। शाम तक धन का भारी ठेर लग गया। मन में माता का नाम ले चमत्कार देख प्रसन्न हो घर ले जाने के वास्ते गहना, कपड़ा सामान खरीदने लगा। यहां काम से निपट तुरंत घर को रवाना हुआ।
उधर उसकी पत्नी जंगल में लकड़ी लेने जाती है, लौटते वक्त माताजी के मंदिर में विश्राम करती। वह तो उसके प्रतिदिन रुकने का जो स्थान ठहरा, धूल उड़ती देख वह माता से पूछती है- हे माता, यह धूल कैसे उड़ रही है? माता कहती है- हे पुत्री तेरा पति आ रहा है। अब तू ऐसा कर लकड़ियों के तीन बोझ बना ले, एक नदी के किनारे रख और दूसरा मेरे मंदिर पर व तीसरा अपने सिर पर। तेरे पति को लकड़ियों का गट्ठर देख मोह पैदा होगा, वह यहां रुकेगा, नाश्ता-पानी खाकर मां से मिलने जाएगा, तब तू लकड़ियों का बोझ उठाकर जाना और चौक में गट्ठर डालकर जोर से आवाज लगाना- लो सासूजी, लकडिय़ों का गट्ठर लो, भूसी की रोटी दो, नारियल के खेपड़े में पानी दो, आज मेहमान कौन आया है? माताजी से बहुत अच्छा कहकर वह प्रसन्न मन से लकड़ियों के तीन गट्ठर बनाई। एक नदी के किनारे पर और एक माताजी के मंदिर पर रखा।

इतने में मुसाफिर आ पहुंचा। सूखी लकड़ी देख उसकी इच्छा उत्पन्न हुई कि हम यही पर विश्राम करें और भोजन बनाकर खा-पीकर गांव जाएं। इसी तरह रुक कर भोजन बना, विश्राम करके गांव को गया। सबसे प्रेम से मिला। उसी समय सिर पर लकड़ी का गट्ठर लिए वह उतावली सी आती है। लकड़ियों का भारी बोझ आंगन में डालकर जोर से तीन आवाज देती है- लो सासूजी, लकड़ियों का गट्ठर लो, भूसी की रोटी दो। आज मेहमान कौन आया है। यह सुनकर उसकी सास बाहर आकर अपने दिए हुए कष्टों को भुलाने हेतु कहती है- बहु ऐसा क्यों कहती है? तेरा मालिक ही तो आया है। आ बैठ, मीठा भात खा, भोजन कर, कपड़े-गहने पहिन। उसकी आवाज सुन उसका पति बाहर आता है। अंगूठी देख व्याकुल हो जाता है। मां से पूछता है- मां यह कौन है? मां बोली- बेटा यह तेरी बहु है। जब से तू गया है तब से सारे गांव में भटकती फिरती है। घर का काम-काज कुछ करती नहीं, चार पहर आकर खा जाती है। वह बोला- ठीक है मां मैंने इसे भी देखा और तुम्हें भी, अब दूसरे घर की ताली दो, उसमें रहूंगा। मां बोली- ठीक है, जैसी तेरी मरजी। तब वह दूसरे मकान की तीसरी मंजिल का कमरा खोल सारा सामान जमाया। एक दिन में राजा के महल जैसा ठाट-बाट बन गया। अब क्या था? बहु सुख भोगने लगी। इतने में शुक्रवार आया।

शुक्रवार व्रत के उद्यापन में हुई भूल, किया खटाई का इस्तेमाल 

उसने पति से कहा- मुझे संतोषी माता के व्रत का उद्यापन करना है। पति बोला- खुशी से कर लो। वह उद्यापन की तैयारी करने लगी। जिठानी के लड़कों को भोजन के लिए कहने गई। उन्होंने मंजूर किया परन्तु पीछे से जिठानी ने अपने बच्चों को सिखाया, देखो, भोजन के समय खटाई मांगना, जिससे उसका उद्यापन पूरा न हो। लड़के जीमने आए खीर खाना पेट भर खाया, परंतु बाद में खाते ही कहने लगे- हमें खटाई दो, खीर खाना हमको नहीं भाता, देखकर अरुचि होती है। वह कहने लगी- भाई खटाई किसी को नहीं दी जाएगी। यह तो संतोषी माता का प्रसाद है। लड़के उठ खड़े हुए, बोले- पैसा लाओ, भोली बहु कुछ जानती नहीं थी, उन्हें पैसे दे दिए। लड़के उसी समय हठ करके इमली खटाई ले खाने लगे। यह देखकर बहु पर माताजी ने कोप किया। राजा के दूत उसके पति को पकड़ कर ले गए। जेठ जेठानी मन-माने वचन कहने लगे। लूट-लूट कर धन इकट्ठा कर लाया है, अब सब मालूम पड़ जाएगा जब जेल की मार खाएगा। बहु से यह सहन नहीं हुए।

मां संतोषी से मांगी माफी 

रोती हुई माताजी के मंदिर गई, कहने लगी- हे माता, तुमने क्या किया, हंसा कर अब भक्तों को रुलाने लगी। माता बोली- बेटी तूने उद्यापन करके मेरा व्रत भंग किया है। वह कहने लगी- माता मैंने कुछ अपराध किया है, मैंने तो भूल से लड़कों को पैसे दे दिए थे, मुझे क्षमा करो। मैं फिर तुम्हारा उद्यापन करूंगी। मां बोली- अब भूल मत करना। वह कहती है- अब भूल नहीं होगी, अब बतलाओ वे कैसे आवेंगे? मां बोली- जा पुत्री तेरा पति तुझे रास्ते में आता मिलेगा। वह निकली, राह में पति आता मिला। वह पूछी- कहां गए थे? वह कहने लगा- इतना धन जो कमाया है उसका टैक्स राजा ने मांगा था, वह भरने गया था। वह प्रसन्न हो बोली- भला हुआ, अब घर को चलो। कुछ दिन बाद फिर शुक्रवार आया

फिर किया व्रत का उद्यापन 

वह बोली- मुझे फिर माता का उद्यापन करना है। पति ने कहा- करो। बहु फिर जेठ के लड़कों को भोजन को कहने गई। जेठानी ने एक दो बातें सुनाई और सब लड़कों को सिखाने लगी। तुम सब लोग पहले ही खटाई मांगना। लड़के भोजन से पहले कहने लगे- हमें खीर नहीं खानी, हमारा जी बिगड़ता है, कुछ खटाई खाने को दो। वह बोली- खटाई किसी को नहीं मिलेगी, आना हो तो आओ, वह ब्राह्मण के लड़के लाकर भोजन कराने लगी, यथा शक्ति दक्षिणा की जगह एक-एक फल उन्हें दिया। संतोषी माता प्रसन्न हुई।

संतोषी माता का फल 

माता की कृपा होते ही नवमें मास में उसके चन्द्रमा के समान सुन्दर पुत्र प्राप्त हुआ। पुत्र को पाकर प्रतिदिन माता जी के मंदिर को जाने लगी। मां ने सोचा- यह रोज आती है, आज क्यों न इसके घर चलूं। यह विचार कर माता ने भयानक रूप बनाया, गुड़-चने से सना मुख, ऊपर सूंड के समान होठ, उस पर मक्खियां भिन-भिन कर रही थी। देहली पर पैर रखते ही उसकी सास चिल्लाई- देखो रे, कोई चुड़ैल डाकिन चली आ रही है, लड़कों इसे भगाओ, नहीं तो किसी को खा जाएगी। लड़के भगाने लगे, चिल्लाकर खिड़की बंद करने लगे। बहु रौशनदान में से देख रही थी, प्रसन्नता से पगली बन चिल्लाने लगी- आज मेरी माता जी मेरे घर आई है। वह बच्चे को दूध पीने से हटाती है। इतने में सास का क्रोध फट पड़ा। वह बोली- क्या उतावली हुई है? बच्चे को पटक दिया। इतने में मां के प्रताप से लड़के ही लड़के नजर आने लगे। वह बोली- मां मैं जिसका व्रत करती हूं यह संतोषी माता है। सबने माता जी के चरण पकड़ लिए और विनती कर कहने लगे- हे माता, हम मूर्ख हैं, अज्ञानी हैं, तुम्हारे व्रत की विधि हम नहीं जानते, व्रत भंग कर हमने बड़ा अपराध किया है, जग माता आप हमारा अपराध क्षमा करो। इस प्रकार माता प्रसन्न हुई। बहू को प्रसन्न हो जैसा फल दिया, वैसा माता सबको दे, जो पढ़े उसका मनोरथ पूर्ण हो। बोलो संतोषी माता की जय।

सोमवार व्रत कथा Vrat katha Somvar
हिन्दू धर्म के अनुसार सोमवार के दिन भगवान शिव की पूजा की जाती है। जो व्यक्ति सोमवार के दिन भगवान शिव की पूजा करते हैं उन्हें मनोवांछित फल अवश्य मिलता है।
व्रत कथा: किसी नगर में एक साहूकार रहता था। उसके घर में धन की कोई कमी नहीं थी लेकिन उसकी कोई संतान नहीं थी जिस वजह से वह बेहद दुखी था। पुत्र प्राप्ति के लिए वह प्रत्येक सोमवार व्रत रखता था और पूरी श्रद्धा के साथ शिवालय में जाकर भगवान शिव और पार्वती जी की पूजा करता था। उसकी भक्ति देखकर मां पार्वती प्रसन्न हो गई और भगवान शिव से उस साहूकार की मनोकामना पूर्ण करने का निवेदन किया। पार्वती जी की इच्छा सुनकर भगवान शिव ने कहा कि "हे पार्वती। इस संसार में हर प्राणी को उसके कर्मों के अनुसार फल मिलता है और जिसके भाग्य में जो हो उसे भोगना ही पड़ता है।" लेकिन पार्वती जी ने साहूकार की भक्ति का मान रखने के लिए उसकी मनोकामना पूर्ण करने की इच्छा जताई। माता पार्वती के आग्रह पर शिवजी ने साहूकार को पुत्र-प्राप्ति का वरदान तो दिया लेकिन साथ ही यह भी कहा कि उसके बालक की आयु केवल बारह वर्ष होगी। 
माता पार्वती और भगवान शिव की इस बातचीत को साहूकार सुन रहा था। उसे ना तो इस बात की खुशी थी और ना ही गम। वह पहले की भांति शिवजी की पूजा करता रहा। कुछ समय उपरांत साहूकार के घर एक पुत्र का जन्म हुआ। जब वह बालक ग्यारह वर्ष का हुआ तो उसे पढ़ने के लिए काशी भेज दिया गया। 
साहूकार ने पुत्र के मामा को बुलाकर उसे बहुत सारा धन दिया और कहा कि तुम इस बालक को काशी विद्या प्राप्ति के लिए ले जाओ और मार्ग में यज्ञ कराओ। जहां भी यज्ञ कराओ वहीं पर ब्राह्मणों को भोजन कराते और दक्षिणा देते हुए जाना।
दोनों मामा-भांजे इसी तरह यज्ञ कराते और ब्राह्मणों को दान-दक्षिणा देते काशी की ओर चल पड़े। राते में एक नगर पड़ा जहां नगर के राजा की कन्या का विवाह था। लेकिन जिस राजकुमार से उसका विवाह होने वाला था वह एक आंख से काना था। राजकुमार के पिता ने अपने पुत्र के काना होने की बात को छुपाने के लिए एक चाल सोची। साहूकार के पुत्र को देखकर उसके मन में एक विचार आया। उसने सोचा क्यों न इस लड़के को दूल्हा बनाकर राजकुमारी से विवाह करा दूं। विवाह के बाद इसको धन देकर विदा कर दूंगा और राजकुमारी को अपने नगर ले जाऊंगा। 
लड़के को दूल्हे का वस्त्र पहनाकर राजकुमारी से विवाह कर दिया गया। लेकिन साहूकार का पुत्र एक ईमानदार शख्स था। उसे यह बात न्यायसंगत नहीं लगी। उसने अवसर पाकर राजकुमारी की चुन्नी के पल्ले पर लिखा कि "तुम्हारा विवाह मेरे साथ हुआ है लेकिन जिस राजकुमार के संग तुम्हें भेजा जाएगा वह एक आंख से काना है। मैं तो काशी पढ़ने जा रहा हूं।"
जब राजकुमारी ने चुन्नी पर लिखी बातें पढ़ी तो उसने अपने माता-पिता को यह बात बताई। राजा ने अपनी पुत्री को विदा नहीं किया जिससे बारात वापस चली गई। दूसरी ओर साहूकार का लड़का और उसका मामा काशी पहुंचे और वहां जाकर उन्होंने यज्ञ किया। जिस दिन लड़के की आयु 12 साल की हुई उसी दिन यज्ञ रखा गया। लड़के ने अपने मामा से कहा कि मेरी तबीयत कुछ ठीक नहीं है। मामा ने कहा कि तुम अन्दर जाकर सो जाओ। 
शिवजी के वरदानुसार कुछ ही क्षणों में उस बालक के प्राण निकल गए। मृत भांजे को देख उसके मामा ने विलाप शुरू किया। संयोगवश उसी समय शिवजी और माता पार्वती उधर से जा रहे थे। पार्वती ने भगवान से कहा- प्राणनाथ, मुझे इसके रोने के स्वर सहन नहीं हो रहा। आप इस व्यक्ति के कष्ट को अवश्य दूर करें| जब शिवजी मृत बालक के समीप गए तो वह बोले कि यह उसी साहूकार का पुत्र है, जिसे मैंने 12 वर्ष की आयु का वरदान दिया। अब इसकी आयु पूरी हो चुकी है। लेकिन मातृ भाव से विभोर माता पार्वती ने कहा कि हे महादेव आप इस बालक को और आयु देने की कृपा करें अन्यथा इसके वियोग में इसके माता-पिता भी तड़प-तड़प कर मर जाएंगे। माता पार्वती के आग्रह पर भगवान शिव ने उस लड़के को जीवित होने का वरदान दिया| शिवजी की कृपा से वह लड़का जीवित हो गया। शिक्षा समाप्त करके लड़का मामा के साथ अपने नगर की ओर चल दिए। दोनों चलते हुए उसी नगर में पहुंचे, जहां उसका विवाह हुआ था। उस नगर में भी उन्होंने यज्ञ का आयोजन किया। उस लड़के के ससुर ने उसे पहचान लिया और महल में ले जाकर उसकी आवभगत की और अपनी पुत्री को विदा किया। 
इधर भूखे-प्यासे रहकर साहूकार और उसकी पत्नी बेटे की प्रतीक्षा कर रहे थे। उन्होंने प्रण कर रखा था कि यदि उन्हें अपने बेटे की मृत्यु का समाचार मिला तो वह भी प्राण त्याग देंगे परंतु अपने बेटे के जीवित होने का समाचार पाकर वह बेहद प्रसन्न हुए। उसी रात भगवान शिव ने व्यापारी के स्वप्न में आकर कहा- हे श्रेष्ठी, मैंने तेरे सोमवार के व्रत करने और व्रतकथा सुनने से प्रसन्न होकर तेरे पुत्र को लम्बी आयु प्रदान की है। 
जो कोई सोमवार व्रत करता है या कथा सुनता और पढ़ता है उसके सभी दुख दूर होते हैं और समस्त मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं। 

बुधवार व्रत कथा Vrat katha Budhvar
बुध ग्रह की शांति और सर्व-सुखों की इच्छा रखने वाले स्त्री-पुरुषों को बुधवार का व्रत अवश्य करना चाहिए। कई जगह बुधवार के दिन गणेश जी के पूजा की जाती है। हालांकि बुधवार की व्रत कथा पूर्णत: भगवान बुध पर आधारित है। 

एक समय की बात है एक साहूकार अपनी पत्नी को विदा कराने के लिए अपने ससुराल गया। कुछ दिन वहां रहने के उपरांत उसने सास-ससुर से अपनी पत्नी को विदा करने के लिए कहा किंतु सास-ससुर तथा अन्य संबंधियों ने कहा कि "बेटा आज बुधवार है। बुधवार को किसी भी शुभ कार्य के लिए यात्रा नहीं करते।" लेकिन वह नहीं माना और हठ करके बुधवार के दिन ही पत्नी को विदा करवाकर अपने नगर को चल पड़ा। राह में उसकी पत्नी को प्यास लगी, उसने पति से पीने के लिए पानी मांगा। साहूकार लोटा लेकर गाड़ी से उतरकर जल लेने चला गया। जब वह जल लेकर वापस आया तो वह बुरी तरह हैरान हो उठा, क्योंकि उसकी पत्नी के पास उसकी ही शक्ल-सूरत का एक दूसरा व्यक्ति बैठा था। 

पत्नी भी अपने पति को देखकर हैरान रह गई। वह दोनों में कोई अंतर नहीं कर पाई। साहूकार ने पास बैठे शख्स से पूछा कि तुम कौन हो और मेरी पत्नी के पास क्यों बैठे हो? उसकी बात सुनकर उस व्यक्ति ने कहा- अरे भाई, यह मेरी पत्नी है। मैं अपनी पत्नी को ससुराल से विदा करा कर लाया हूं, लेकिन तुम कौन हो जो मुझसे ऐसा प्रश्न कर रहे हो? दोनों आपस में झगड़ने लगे। तभी राज्य के सिपाही आए और उन्होंने साहूकार को पकड़ लिया और स्त्री से पूछा कि तुम्हारा असली पति कौन है? उसकी पत्नी चुप रही क्योंकि दोनों को देखकर वह खुद हैरान थी कि वह किसे अपना पति कहे? साहूकार ईश्वर से प्रार्थना करते हुए बोला "हे भगवान, यह क्या लीला है?"
तभी आकाशवाणी हुई कि मूर्ख आज बुधवार के दिन तुझे शुभ कार्य के लिए गमन नहीं करना चाहिए था। तूने हठ में किसी की बात नहीं मानी। यह सब भगवान बुधदेव के प्रकोप से हो रहा है।
साहूकार ने भगवान बुधदेव से प्रार्थना की और अपनी गलती के लिए क्षमा याचना की। तब मनुष्य के रूप में आए बुध देवता अंतर्ध्यान हो गए। वह अपनी स्त्री को घर ले आया। इसके पश्चात पति-पत्नी नियमपूर्वक बुधवार व्रत करने लगे। जो व्यक्ति इस कथा को कहता या सुनता है उसको बुधवार के दिन यात्रा करने का कोई दोष नहीं लगता और उसे सभी प्रकार के सुखों की प्राप्ति होती है।

Happy Karwa Chauth 2018 Wishes Wallpapers, Images, Status, Pics, Hindi SMS, Messages, Quotes, Greetings, Pictures, Photos in Hindi: सुहागिन महिलाओं के लिए सबसे खास करवा चौथ का पर्व आज है। ऐसे में सोशल मीडिया पर जरुर करें पति और पार्टनर से प्यार का ईजहार क्योंकि ऐसा करना बनाता है रिश्ते को खूबसूरत। करवा चौथ के दिन शुभकामनाएं देने के लिए अगर एक-दूसरे को बधाई संदेश भेज रही हैं तो सिर्फ मैसेज टाइप करने की बजाय शानदार फोटोज का इस्तेमाल करें।
Happy Karwa Chauth 2018 Wishes Images: इन फोटोज के जरिए दें करवा चौथ की शुभकामनाएं
Happy Karwa Chauth 2018 Wishes Images: इन फोटोज के जरिए दें करवा चौथ की शुभकामनाएं

Happy Karwa Chauth 2018 Wishes Images: इन फोटोज के जरिए दें करवा चौथ की शुभकामनाएं

Happy Karwa Chauth 2018 Wishes Images, Status, Pics, Wallpapers, Hindi SMS, Messages, Quotes, Greetings, Pictures, Photos in Hindi: करवा चौथ का व्रत हिंदू धर्म की विवाहित महिलाएं पति की लंबी उम्र की कामना के लिए करवा चौथ का व्रत रखती है। इस दिन महिलाएं पूरे दिन बिना पानी और बिना कुछ खाएं व्रत रखती है। इस त्योहार की तैयारियां जोरो-शोरों पर हैं। 27 अक्टूबर यानी आज करवा चौथ का व्रत रखा जा रहा है। पति की लंबी उम्र के लिए उत्तर भारतीय राज्यों में इस व्रत का विशेष महत्व माना जाता है। जिन लड़कियों की सगाई हो गई है वे भी करवा चौथ का व्रत रखती है और अपने होने वाले पति की लंबी उम्र की प्रार्थना करती है। करवा चौथ पर सुबह के समय सर्गी खाई जाती है और फिर सूरज उगने के बाद महिलाएं पूरा दिन भूखे- प्यासे रह कर उपवास करती है। इस दिन आपने अपने पति के लिए व्रत रखा है तो अपना प्यार उनको सोशल मीडिया पर जताना बिल्कुल ना भूलें। इसके अलावा व्रत करने वाली महिलाएं भी शानदार फोटो मैसेज के माध्यम से एक-दूसरे को करवाचौथ की बधाईयां दे सकती है। करवा चौथ पर अपने सोशल मीडिया, व्हाट्स एप स्टेटस, कवर फोटो और को शानदार बधाई संदेशों से सजा कर मौके को और भी खास बनाएं।
Happy Karwa Chauth 2018 Wishes Images: इन फोटोज के जरिए दें करवा चौथ की शुभकामनाएं
करवा चौथ बधाई संदेश

Happy Karwa Chauth Wishes For Husband 

जब तक ना देखें चेहरा आपका.. ना सफल हो ये त्यौहार हमारा.. आपके बिना क्या है ये जीवन हमारा.. जल्दी आओ और दिखाओ अपनी सूरत.. और कर दो करवा चौथ सफल हमारा! हैप्पी करवा चौथ!

Happy Karwa Chauth 2018 Wishes Messages, Status and SMS 

अज सानु तुसी दा इन्तजार हैं ये दिन हैं करवा चौथ दा तुहाडी लम्बी उम्रा दी सानु दरकरार हैं छेती आणा साडे पी असी नु तुहाडा इन्तजार हैं | Happy Karva Chauth

Karwa Chauth Wishes For Wife: करवा चौथ की बधाई 

जब तक ना देखे चेहरा आप का, ना सफल हो यह त्यौहार हमारा, जल्दी आओ दिखा दो अपनी सूरत, और कर दो करवा चौथ सफल हमारा.
Happy Karwa Chauth 2018 Wishes Images: इन फोटोज के जरिए दें करवा चौथ की शुभकामनाएं
Happy Karwa Chauth 2018 Wishes Images: इन फोटोज के जरिए दें करवा चौथ की शुभकामनाएं

करवा चौथ की पूजा विधि 

करवा चौथ के दिन सुबह स्नान कर स्वच्छ वस्त्र धारण करें और व्रत का संकल्प लें। इसके लिए ‘मम सुखसौभाग्य पुत्रपौत्रादि सुस्थिर श्री प्राप्तये कर्क चतुर्थी व्रतमहं करिष्ये’ मंत्र का जाप करें। पूजास्थान पर गेरू से फलक बनाएं तथा चावल पीसकर उससे करवा का चित्र बनाएं। शाम को माता पार्वती और शिव की फोटो लकड़ी के तख्त पर रखें। ध्यान रहे, फोटो में गणेश भगवान पार्वती माता की गोद में बैठे हों। माता पार्वती का श्रृंगार करें फिर पूजन करें। चांद उगने के बाद उसे अर्घ्य दें। बाद में पति के हाथ से पानी पीकर या फिर निवाला खाकर अपना व्रत खोलें। कोरे करवा में जल भर लें और करवा चौथ व्रत कथा सुनें या पढ़ें।

अपने चांद को सुनाएं ये गानें

सजना जी वारी- वारी जाऊं जी मैं 
तुम आये तो आया मुझे याद गली में आज चांद निकला 
चांद छुपा बादल में, शर्मा के मेरी जाना 
रात की हथेली में चांद जगमगाता है

करवा चौथ के श्रृंगार का महत्व 

मांग टिका- माना जाता है कि यह शरीर की गर्मी को नियंत्रित करता है। 
सिंदूर- इसमें मौजूद रेड लेड ऑक्साइड से दिमाग की नसें नियंत्रित रह सकती है। 
काजल- माना जाता है इसे लगाने से नकारात्मकता खत्म होती है। 
चूड़ियां- सोने- चांदी की चूड़ियां हाथ की हड्डियों के लिए लाभदायक होती है।
Happy Karwa Chauth 2018 Wishes Images: इन फोटोज के जरिए दें करवा चौथ की शुभकामनाएं
करवा चौथ बधाई संदेश

Karwa Chauth Puja Thali: करवा चौथ पूजन की थाली 

करवा चौथ में पूजा की थाली का बडा महत्‍व होता है। पूजा की थाली तैयार करने के लिए एक स्‍टील या ब्रास की थाली लें। इसमें कॉटन को तेल में डुबाकर उससे थाली में शुभ चिह्न बनाएं। थाली में कुमकुम और चावल को अलग-अलग छोटी कटोरी में रखें। थाली में दीया, अगरबत्‍ती और मिठाई रखें। मिट्टी के करवा को सजाकर उसमें पानी भर लें। इसके साथ ही चांद को देखने के लिए एक सजी हुई छलनी अपने पास रख लें। थाली पर चुटकी से सिंदूर, हल्दी या रंगोली कलर मिलाकर छिड़क दें जिससे आपकी थाली और भी सुंदर दिखेगी। इसके अलावा थाली और करवा के किनारों पर अलग-अलग रंगों की लेस चिपकाकर इसकी सुंदरता बढ़ाई जा सकती है।

Happy Karwa Chauth 2018 wishes Messages, SMS, Status: इन मैसेज के जरिए दें अपने प्रेमी को बधाई

अज सानु तुसी दा इन्तजार हैं ये दिन हैं करवा चौथ दा तुहाडी लम्बी उम्रा दी सानु दरकरार हैं छेती आणा साडे पी असी नु तुहाडा इन्तजार हैं | Happy Karva Chauth

Happy Karwa Chauth 2018 wishes Messages, SMS, Status: इन मैसेज के जरिए दें अपने प्रेमी को बधाई

 भूल से कोई भूल हुई हो तोभूल समझकर भूल जाना पर भूलना सिर्फ भूल कोकहीं हमें न भूल जानाकरवा चौथ की शुभकामनाएं
Happy Karwa Chauth 2018 Wishes Images: इन फोटोज के जरिए दें करवा चौथ की शुभकामनाएं
Happy Karwa Chauth 2018 Wishes Images: इन फोटोज के जरिए दें करवा चौथ की शुभकामनाएं

बधाई संदेश के जरिए जीते लोगों का दिल

Hey My Loveएक दिन हम भी इसी तरह करवा चौथ मनाएंगेI promise...Happy Karva Chauth....

Happy Karwa Chauth 2018 wishes Messages, SMS, Status: करवा चौथ की बधाई 

चांद की रोशनी ये पैगाम है लाई आपके लिए मन में खुशियां है छाईसबसे पहले आपको हमारे तरफ से करवा चौथ की ढेर सारी बधाई Happy Karva Chauth

Happy Karwa Chauth 2018 Wishes Messages, SMS, Status: करवा चौथ की बधाई 

दे जाए उम्र तुम्हें हज़ार -हज़ार साल, आए तो संग लाए खुशियाँ हज़ार, हर साल हम मनाए ये त्यौहार, भर दे हमारा दामन खुशियों के साथ, दे जाए उम्र तुम्हें हज़ार-हज़ार साल….

Happy Karwa Chauth 2018 Wishes Messages, SMS, Status: करवा चौथ की बधाई 

जब तक ना देखे चेहरा आप का, ना सफल हो यह त्यौहार हमारा, जल्दी आओ दिखा दो अपनी सूरत, और कर दो करवा चौथ सफल हमारा.

Happy Karwa Chauth 2018 Wishes Messages, SMS, Status: करवा चौथ की बधाई 

आज का दिन है नाम तुम्हारे जल्दी से आ जाओ आप पास हमारे है इंतज़ार आपका बेसब्री से रहो साथ मेरे समाँ जाओ साँसों में

Happy Karwa Chauth 2018 Wishes Messages, SMS, Status: करवा चौथ की बधाई 

आप दोनों की जोड़ी कभी न टूटे, खुदा करे आप एक दूसरे से कभी न रूठें, युहीं एक होकर, आप ये जिंदगी बिताये, कि आप दोनों की खुशियाँ, एक पल के लिए भी न छूटे! शुभ करवा चौथ!

Happy Karwa Chauth 2018 Wishes Messages, SMS, Status: करवा चौथ की बधाई 

जो हमे आपकी एक झलक मिल जाए तो ये व्रत सफल हो जाए.,हम तो बैठे है आपके इंतजार में. आप आए और ये व्रत पूरा कर जाए। हैप्पी करवा चौथ!

करवा चौथ उत्तर भारतीय स्त्रियों के लिए एक बेहद ही ख़ास त्योहार है। ये व्रत सिर्फ धार्मिक कारणों और मान्यताओं के लिए ही नहीं बल्कि पति-पत्नी के आपसी प्रेम और समर्पण का भी त्योहार है। करवा चौथ पति की लंबी आयु के लिए रखा जाने वाला व्रत है। मान्यताओं के मुताबिक और छांदोग्य उपनिषद के अनुसार करवा चौथ के दिन व्रत रखने वाली चंद्रमा में पुरुष रूपी ब्रह्मा की उपासना करने से सारे पाप नष्ट हो जाते हैं। इससे जीवन के सभी तरह के कष्टों का निवारण तो होता ही है साथ ही लंबी उम्र भी प्राप्त होती है। करवा चौथ के व्रत में शिव, पार्वती, कार्तिकेय, गणोश तथा चंद्रमा का पूजन करना चाहिए। चंद्रोदय के बाद चंद्रमा को अघ्र्य देकर पूजा होती है। पूजा के बाद मिट्टी के करवे में चावल, उड़द की दाल, सुहाग की सामग्री रखकर सास अथवा सास के समकक्ष किसी सुहागिन के पांव छूकर सुहाग सामग्री भेंट करनी चाहिए।

1. बहू को सरगी देना है बेहद ज़रूरी

ससुराल से मिलने वाली सरगी करवा चौथ के व्रत का सबसे ज़रूरी हिस्सा होती है। बता दें की व्रत शुरू होने से पहले हर सास अपनी बहू को कुछ मिठाइयां, कपड़े और श्रृंगार का सामान देती हैं, इसे ही सरगी कहा जाता है। करवा चौथ के दिन सूर्योदय होने से पहले सुबह लगभग चार बजे के आस-पास महिलाएं इसी सरगी को खाकर अपने व्रत की शुरुआत करती हैं। 

2. बेटी के घर बाया भेजती हैं मां

बता दें कि जिस तरह तरह सास का अपनी बहू को देती है उसी तरह बाया, मां और बेटी से जुड़ी रस्म है। हर करवा चौथ पर शाम को चौथ माता की पूजा शुरू होने से पहले हर मां अपनी बेटी के घर कुछ मिठाइयां, तोहफे और ड्राई फ्रूट्स भेजती है। इसे बाया कहा जाता है। ध्यान रखें बाया पूजा शुरू होने से पहले ही पहुंचाया जाना शुभ होता है।

3. कथा सुनना भी है ज़रूरी

करवा चौथ में जितना महत्व व्रत और पूजा का है उतना ही महत्व करवा चौथ की कथा सुनने का भी है। अक्सर ये देखा जाता है कि कई महिलाओं को कथा सुनने में रुचि नहीं होती और इसी वजह से वे कथा में अपना ध्यान नहीं लगातीं। हालांकि बिना कथा सुने आपका इस व्रत को रखने का कोई फायदा नहीं है। इस त्योहार में जितना जरूरी व्रत और पूजा करना होता है, उतना ही जरूरी कथा सुनना भी होता है। इसलिए सभी महिलाओं को एकचित्त होकर कथा सुननी चाहिए और अगर कथा नहीं सुननी है तो व्रत से भी परहेज करना चाहिए।

4. करवा चौथ के गीत भी गाएं

करवा चौथ की पूजा के लिए आस-पास की सभी महिलाएं एक जगह मिलकर व्रत कथा सुनती हैं और पूजा करती हैं। ऐसे में पूजा के समय ही करवा चौथ के गीत और भजन गाए जाते हैं, इनमें हिस्सा लेना भी कथा सुनने के जितना ही महत्वपूर्ण है। ऐसा करने से वातावरण शुद्ध होता है और पूजा का पूरा फल प्राप्त होता है।

5. लाल साड़ी या लहंगा ही पहनें

ये तो सभी जानते हैं कि करवा चौथ का व्रत महिलाओं के वैवाहिक जीवन से जुड़ा होता है। इसलिए ये कहा जाता है कि महिलाओं को इस दिन अपनी शादी का जोड़ा पहनना चाहिए। अगर किसी के पास शादी का जोड़ा नहीं है तो उसे लाल रंग की साड़ी या लहंगा पहनना चाहिए। असल में मान्यताओं के मुताबिक लाल रंग को प्रेम का प्रतीक माना जाता है। करवा चौथ के दिन जितना ज्यादा से ज्यादा हो सके इसी रंग का प्रयोग करना चाहिए।

October 27, 2018 , ,



ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को निर्जला एकादशी कहते हैं। इस व्रत में भोजन करना और पानी पीना वर्जित है। इस बार निर्जला एकादशी 5 जून सोमवार को है। हिंदू धर्म में एकादशी व्रत का बहुत महत्व है। साल में 24 एकादशी होती है। एकादशी पर भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। निर्जला एकादशी को पांडव एकादशी या भीमसेन एकादशी के नाम से जाना जाता हैं। इस व्रत से व्यक्ति को दीर्घायु अौर मोक्ष की भी प्राप्ति होती है। इस दिन सुबह शीघ्र उठकर स्नानादि कार्यों से निवृत्त होकर भगवान विष्‍णु का ध्यान लगाकर व्रत का संकल्प लें और मंदिर जाएं। भगवान विष्‍णु की आराधना करें और पूजा अर्चना करें। इस दिन गरीबों को दान दक्षिणा देना न भूलें। अगले दिन मंगलवार को सुबह स्नानादि के बाद पूजा करने के उपरांत व्रत को खोलें।
निर्जला एकादशी व्रत की कथा:
एक बार पाण्डु पुत्र भीमसेन ने श्रील वेदव्यासजी से पूछा,” हे परमपूजनीय विद्वान पितामह! मेरे परिवार के सभी लोग एकादशी व्रत करते हैं व मुझे भी करने के लिए कहते हैं। किन्तु मुझसे भूखा नहीं रहा जाता। आप कृपा करके मुझे बताएं कि उपवास किए बिना एकादशी का फल कैसे मिल सकता है?” श्रीलवेदव्यासजी बोले,”पुत्र भीम! यदि आपको स्वर्ग बड़ा प्रिय लगता है, वहां जाने की इच्छा है और नरक से डर लगता है तो हर महीने की दोनों एकादशी को व्रत करना ही होगा।” भीम सेन ने जब ये कहा कि यह उनसे नहीं हो पाएगा तो श्रीलवेदव्यास जी बोले,”ज्येष्ठ महीने के शुल्क पक्ष की एकादशी को व्रत करना। उसे निर्जला कहते हैं। उस दिन अन्न तो क्या, पानी भी नहीं पीना। एकादशी के अगले दिन प्रातः काल स्नान करके, स्वर्ण व जल दान करना। वह करके पारण के समय (व्रत खोलने का समय) ब्राह्मणों व परिवार के साथ अन्नादि ग्रहण करके अपने व्रत को विश्राम देना। जो एकादशी तिथि के सूर्योदय से द्वादशी तिथि के सूर्योदय तक बिना पानी पीए रहता है तथा पूरी विधि से निर्जला व्रत का पालन करता है, उसे साल में जितनी एकादशियां आती हैंं उन सब एकादशियों का फल इस एक एकादशी का व्रत करने से सहज ही मिल जाता है।” यह सुनकर भीम सेन उस दिन से इस निर्जला एकादशी के व्रत का पालन करने लगे अौर वे पाप मुक्त हो गए।

जीवन में आती है बाधा तो करें ये उपाय!
आप भी अगर अपने जीवन के सभी परेशानियों से मुक्ति पाना चाहते हैं तो आज की हमारी इस खबर के माध्यम से जानें कि आज के दिन ऐसे कौन से वो उपाय हैं जिन्हें करने से आप गणेश जी की प्रसन्न कर सकते हैं. बता दें कि बुधवार का दिन रोग, आर्थिक तंगी और दोष से छुटकारा पाने का दिन होता है.

विशेष फलदायी
ज्योतिषाचार्य पंडित कपिल चतुवेर्दी का कहना है कि श्रावण मास की Sankashti Chaturthi पर भगवान गणेश की पूजा विशेष फलदायी होती है। 12 जुलाई को ये Shankashti Chaturthi दोपहर बाद लगेगी। इसदिन पूजा के लिए सुबह के समय स्नान कर गणेश जी और मां गौरी का पूजन करना चाहिए। व्रत रखने वालों को इसका लाभ जरूर मिलता है।

इन्टरनेट डेस्क। भगवान गणेश सुख समृद्धि के दाता हैं। जिन पर भगवान गणेश की कृपा हो जाती हैं। उनके सारे कार्य बिना रूके हो जाते हैं। कुछ ऐसे उपाय है जिनका उपयोग करके भगवान गणेश को प्रसन्न किया जा सकता हैं। साथ ही अपने जीवन में उत्पन्न परेशानियों और दुखों से छुटकारा पाया जा सकता हैं। आइए जाने ये विशेष उपाय....
  • गणेश जी को बुधवार को सिंदूर चढ़ाने गणपति खुश होते हैं और आपकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। 
  • बुधवार के दिन अगर आप किसी गरीब को मूंग दान करते है तो इससे भी भगवान गणेश प्रसन्न होते हैं। 
  • अगर बधुवार को दिन गाय को हरी घास खिलाने से सभी देवी-देवताओं की कृपा बनी रहती है और आपकी सभी इच्छाऐं पूरी होती हैं। 
  • मोदक का भोग लगाने से गणेश जी प्रसन्न होते हैं। इससे बुध के सभी दोष खत्म हो जाते हैं। 
बुधवार को करें ये काम
  • प्रात: और शाम को स्नान करने के बाद विघ्नहर्ता गणेश जी को सिंदूर चढ़ाएं. 
  •  इस बात का विशेष ध्यान रखें कि बुधवार के दिन गाय को हरा चारा खिलाना चाहिए, ऐसा करने से बुध दोष से मुक्ति मिलती है.
  •  किसी जरूरतमंद को दान में मूंगदाल दें, मंदिर में पूजा करते समय हो सके तो गणेश जी को मोदक(लड्डू) का भोग लगाएं.
  •  घर के मुख्य द्वार पर विघ्नहर्ता गणेश जी की तस्वीर लगाएं, ऐसा करने से घर में नकारात्मक प्रभाव का असर नहीं होता.
बुधवार के दिन करें ये काम, कभी नहीं होगी आर्थिक परेशानी करें श्रीगणेश की आराधना, दूर होंगे सारे कष्ट
पूजन में रखें ये सामानपंडित कपिल चतुवेर्दी का कहना है कि पूजन में दूब घास रखे और पीले रंग का मिष्ठान गणेश जी को जरूर भोग लगाएं। पूजन के बाद व्रती को फल का आहार करना चाहिए। संध्या समय में भी भगवान गणेश और मां गोरी का पूजन करना चाहिए। जब व्रत रखें तो सूर्य अस्त से पहले मीठा खाकर उपवास तोड़ें। इस व्रत में अन्न ग्रहण करना निषेध माना जाता है, इसलिए अन्न की जगह फलाहार करना उचित रहता है। 
दूर होगी नकारात्मक ऊर्जाअगर आपके घर में नकारात्मक ऊर्जा का भंडार है और कोई उपाए काम नहीं कर रहे हैं, तो इस दिन व्रत रखें। वहीं बुधवार के दिन अपने घर में श्रीगणेश जी की सफेद रंग की मूर्ति स्थापित करें। ऐसा करने से आपके घर की सभी नकारात्मक ऊर्जा बाहर निकल जाएगी। श्रीगणेश की पूजा करते समय अपना मुंह पूर्व अथवा उत्तर दिशा की ओर रखें। बाद में आसन पर बैठकर भगवान गणेश का पूजन करें। 
करें इस मंत्र का जापश्री गणेश को तिल से बनी वस्तुओं, तिल-गुड़ के लड्‍डू तथा मोदक का भोग लगाएं। 'ऊं सिद्ध बुद्धि सहित महागणपति आपको नमस्कार है। नैवेद्य के रूप में मोदक व ऋतु फल आदि अर्पित है। गणेश पूजन के दौरान धूप-दीप आदि से श्रीगणेश की आराधना करें। फल, फूल, रौली, मौली, अक्षत, पंचामृत आदि से श्रीगणेश को स्नान कराके विधिवत तरीके से पूजा करें। 
सिंदूर चढ़ाने से मनोकामना होगी पूरीगणेश जी को सिंदूर चढ़ाए इससे आपकी सभी मनोकामनाएं जल्द ही पूर्ण होगी। सिंदूर चढ़ाते समय विशेष मंत्र को भी पढ़ें। वैसे तो हर देवी-देवता पर सिंदूर चढ़ाया जाता है, लेकिन शिव परिवार या शिव के सभी अंश अवतारों पर सिंदूर चढ़ाने का एक अलग ही महत्व है।

October 23, 2018 ,
जानिए प्राचीन भारत के ऐसे रहस्य जिनपर आपको गर्व होगा
उक्त 15 हजार वर्षों में भारत ने जहां एक और हिमयुग देखा है तो वहीं उसने जलप्रलय को भी झेला है। उस दौर में भारत में इतना उन्नत, विकसित और सभ्य समाज था जैसा कि आज देखने को मिलता है। इसके अलावा ऐसी कई प्राकृतिक आपदाओं का जिक्र और राजाओं की वंशावली का वर्णन है जिससे भारत के प्राचीन इतिहास की झलक मिलती है। आओ हम जानते हैं प्राचीन भारत के ऐसे 10 रहस्य जिस पर अब विज्ञान भी शोध करने लगा है और अब वह भी इसे सच मानता है।
यदि हम मेहरगढ़ संस्कृति और सभ्यता की बात करें तो वह लगभग 7000 से 3300 ईसा पूर्व अस्तित्व में थी जबकि सिंधु घाटी सभ्यता 3300 से 1700 ईसा पूर्व अस्तित्व में थी। प्राचीन भारत के इतिहास की शुरुआत 1200 ईसापूर्व से 240 ईसा पूर्व के बीच नहीं हुई थी। यदि हम धार्मिक इतिहास के लाखों वर्ष प्राचीन इतिहास को न भी मानें तो संस्कृ‍त और कई प्राचीन भाषाओं के इतिहास के तथ्‍यों के अनुसार प्राचीन भारत के इतिहास की शुरुआत लगभग 13 हजार ईसापूर्व हुई थी अर्थात आज से 15 हजार वर्ष पूर्व।
 अद्भुत मंदिर रचना
प्राचीन भारतीयों ने एक और जहां पिरामिडनुमा मंदिर बनाए तो दूसरी ओर स्तूपनुमा मंदिर बानकर दुनिया को चमत्कृत कर दिया। आज दुनियाभर के धर्म के प्रार्थना स्थल इसी शैली में बनते हैं। मिश्र के पिरामिडों के बाद हिन्दू मंदिरों को देखना सबसे अद्भुत माना जाता था। प्राचीनकाल के बाद मौर्य और गुप्त काल में मंदिरों को नए सिरे से बनाया गया और मध्यकाल में उनमें से अधिकतर मंदिरों का विध्वंस किया गया। माना जाता है कि किसी समय ताजमहल भी एक शिव मंदिर ही था। कुतुबमीनार विष्णु स्तंभ था। अयोध्या में महाभारतकाल का एक प्राचीन और भव्य मंदिर था जिसे तोड़ दिया गया।
मौर्य, गुप्त और विजयनगरम साम्राज्य के दौरान बने हिन्दू मंदिरों की स्थापत्य कला को देखकर हर कोई दांतों तले अंगुली दबाए बिना नहीं रह पाता। अजंता-एलोरा की गुफाएं हों या वहां का विष्णु मंदिर। कोणार्क का सूर्य मंदिर हो या जगन्नाथ मंदिर या कंबोडिया के अंकोरवाट का मंदिर हो या थाईलैंड के मंदिर… उक्त मंदिरों से पता चलता है कि प्राचीनकाल में खासकर महाभारतकाल में किस तरह के मंदिर बने होंगे। समुद्र में डूबी कृष्ण की द्वारिका के अवशेषों की जांच से पता चलता है कि आज से 5,000 वर्ष पहले भी मंदिर और महल इतने भव्य होते थे जितने कि मध्यकाल में बनाए गए थे।
रहस्यों से भरे मंदिर : ऐसे कई मंदिर हैं, जहां तहखानों में लाखों टन खजाना दबा हुआ है। उदाहरणार्थ केरल के श्रीपद्मनाभ स्वामी मंदिर के 7 तहखानों में लाखों टन सोना दबा हुआ है। उसके 6 तहखानों में से करीब 1 लाख करोड़ का खजाना तो निकाल लिया गया है, लेकिन 7वें तहखाने को खोलने पर राजपरिवार ने सुप्रीम कोर्ट से आदेश लेकर रोक लगा रखी है। आखिर ऐसा क्या है उस तहखाने में कि जिसे खोलने से वहां तबाही आने की आशंका जाहिर की जा रही है? कहते हैं उस तहखाने का दरवाजा किसी विशेष मंत्र से बंद है और वह उसी मंत्र से ही खुलेगा।
वृंदावन का एक मंदिर अपने आप ही खुलता और बंद हो जाता है। कहते हैं कि निधिवन परिसर में स्थापित रंगमहल में भगवान कृष्ण रात में शयन करते हैं। रंगमहल में आज भी प्रसाद के तौर पर माखन-मिश्री रोजाना रखा जाता है। सोने के लिए पलंग भी लगाया जाता है। सुबह जब आप इन बिस्तरों को देखें, तो साफ पता चलेगा कि रात में यहां जरूर कोई सोया था और प्रसाद भी ग्रहण कर चुका है। इतना ही नहीं, अंधेरा होते ही इस मंदिर के दरवाजे अपने आप बंद हो जाते हैं इसलिए मंदिर के पुजारी अंधेरा होने से पहले ही मंदिर में पलंग और प्रसाद की व्यवस्था कर देते हैं।
मान्यता के अनुसार यहां रात के समय कोई नहीं रहता है। इंसान छोड़िए, पशु-पक्षी भी नहीं। ऐसा बरसों से लोग देखते आए हैं, लेकिन रहस्य के पीछे का सच धार्मिक मान्यताओं के सामने छुप-सा गया है। यहां के लोगों का मानना है कि अगर कोई व्यक्ति इस परिसर में रात में रुक जाता है तो वह तमाम सांसारिक बंधनों से मुक्त होकर मृत्यु को प्राप्त हो जाता है।

संस्कृत भाषा और ब्राह्मी लिपि
संस्कृत विश्व की सबसे प्राचीन भाषा है तथा समस्त भारतीय भाषाओं की जननी है। ‘संस्कृत’ का शाब्दिक अर्थ है ‘परिपूर्ण भाषा’। संस्कृत से पहले दुनिया छोटी-छोटी, टूटी-फूटी बोलियों में बंटी थी जिनका कोई व्याकरण नहीं था और जिनका कोई भाषा कोष भी नहीं था। कुछ बोलियों ने संस्कृत को देखकर खुद को विकसित किया और वे भी एक भाषा बन गईं।

ब्राह्मी और देवनागरी लिपि : भाषा को लिपियों में लिखने का प्रचलन भारत में ही शुरू हुआ। भारत से इसे सुमेरियन, बेबीलोनीयन और यूनानी लोगों ने सीखा। प्राचीनकाल में ब्राह्मी और देवनागरी लिपि का प्रचलन था। ब्राह्मी और देवनागरी लिपियों से ही दुनियाभर की अन्य लिपियों का जन्म हुआ। ब्राह्मी लिपि एक प्राचीन लिपि है जिससे कई एशियाई लिपियों का विकास हुआ है। महान सम्राट अशोक ने ब्राह्मी लिपि को धम्मलिपि नाम दिया था। ब्राह्मी लिपि को देवनागरी लिपि से भी प्राचीन माना जाता है। कहा जाता है कि यह प्राचीन सिन्धु-सरस्वती लिपि से निकली लिपि है। हड़प्पा संस्कृति के लोग इस लिपि का इस्तेमाल करते थे, तब संस्कृत भाषा को भी इसी लिपि में लिखा जाता था।

शोधकर्ताओं के अनुसार देवनागरी, बांग्ला लिपि, उड़िया लिपि, गुजराती लिपि, गुरुमुखी, तमिल लिपि, मलयालम लिपि, सिंहल लिपि, कन्नड़ लिपि, तेलुगु लिपि, तिब्बती लिपि, रंजना, प्रचलित नेपाल, भुंजिमोल, कोरियाली, थाई, बर्मेली, लाओ, खमेर, जावानीज, खुदाबादी लिपि, यूनानी लिपि आदि सभी लिपियों की जननी है ब्राह्मी लिपि।
कहते हैं कि चीनी लिपि 5,000 वर्षों से ज्यादा प्राचीन है। मेसोपोटामिया में 4,000 वर्ष पूर्व क्यूनीफॉर्म लिपि प्रचलित थी। इसी तरह भारतीय लिपि ब्राह्मी के बारे में भी कहा जाता है। जैन पौराणिक कथाओं में वर्णन है कि सभ्यता को मानवता तक लाने वाले पहले तीर्थंकर ऋषभदेव की एक बेटी थी जिसका नाम ब्राह्मी था और कहा जाता है कि उसी ने लेखन की खोज की। यही कारण है कि उसे ज्ञान की देवी सरस्वती के साथ जोड़ते हैं। हिन्दू धर्म में सरस्वती को शारदा भी कहा जाता है, जो ब्राह्मी से उद्भूत उस लिपि से संबंधित है, जो करीब 1500 वर्ष से अधिक पुरानी है।
केरल के एर्नाकुलम जिले में कलादी के समीप कोट्टानम थोडू के आसपास के इलाकों से मिली कुछ कलात्मक वस्तुओं पर ब्राह्मी लिपि खुदी हुई पाई गई है, जो नवपाषाणकालीन है। यह खोज इलाके में महापाषाण और नवपाषाण संस्कृति के अस्तित्व पर प्रकाश डालती है। पत्थर से बनी इन वस्तुओं का अध्ययन विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के वैज्ञानिक और केरल विश्वविद्यालय के इतिहास विभाग के पुरातत्वविद डॉ. पी. राजेन्द्रन द्वारा किया गया। ये वस्तुएं एर्नाकुलम जिले में मेक्कालादी के अंदेथ अली के संग्रह का हिस्सा हैं। राजेन्द्रन ने बताया कि मैंने कलादी में कोट्टायन के आसपास से अली द्वारा संग्रहीत कलात्मक वस्तुओं के विशाल भंडार का अध्ययन किया। इन वस्तुओं में नवपाषणकालीन और महापाषाणकालीन से संबंधित वस्तुएं भी हैं। उन्होंने बताया कि नवपाषाणकलीन कुल्हाड़ियों का अध्ययन करने के बाद पाया गया कि ऐसी 18 कुल्हाड़ियों में से 3 पर गुदी हुई लिपि ब्राह्मी लिपि है।

धर्म आधारित व्यवस्था
सैकड़ों हजार वर्ष पूर्व लोग कबीले, समुदाय, घुमंतू वनवासी आदि में रहकर जीवन-यापन करते थे और उनकी भिन्न-भिन्न विचारधाराएं थीं। उनके पास कोई स्पष्ट न तो शासन व्यवस्था थी और न ही कोई सामाजिक व्यवस्था। परिवार, संस्कार और धर्म की समझ तो बिलकुल नहीं थी। ऐसे में भारतीय हिमालयीन क्षेत्र में कुछ मुट्ठीभर लोग थे, जो इस संबंध में सोचते थे। उन्होंने ही वेद को सुना और उसे मानव समाज को सुनाया। जब कई मानव समूह 5,000 साल पहले ही घुमंतू वनवासी या जंगलवासी थे, भारतीय सिंधु घाटी में हड़प्पा संस्कृति की स्थापना हो चुकी थी। उल्लेखनीय है कि प्राचीनकाल से ही भारतीय समाज कबीले में नहीं रहा। वह एक वृहत्तर और विशेष समुदाय में ही रहा।

धर्म और सभ्यता का आविष्कारक देश भारत : दुनियाभर की प्राचीन सभ्यताओं से हिन्दू धर्म का क्या कनेक्शन था? या कि संपूर्ण धरती पर हिन्दू वैदिक धर्म ने ही लोगों को सभ्य बनाने के लिए अलग-अलग क्षेत्रों में धार्मिक विचारधारा की नए-नए रूप में स्थापना की थी? आज दुनियाभर की धार्मिक संस्कृति और समाज में हिन्दू धर्म की झलक देखी जा सकती है चाहे वह यहूदी धर्म हो, पारसी धर्म हो या ईसाई-इस्लाम धर्म हो।

विश्‍व की प्राचीन सभ्यताएं और हिन्दू धर्म, जानिए रहस्य…
ईसा से 2300-2150 वर्ष पूर्व सुमेरिया, 2000-400 वर्ष पूर्व बेबिलोनिया, 2000-250 ईसा पूर्व ईरान, 2000-150 ईसा पूर्व मिस्र (इजिप्ट), 1450-500 ईसा पूर्व असीरिया, 1450-150 ईसा पूर्व ग्रीस (यूनान), 800-500 ईसा पूर्व रोम की सभ्यताएं विद्यमान थीं। उक्त सभी से पूर्व महाभारत का युद्ध लड़ा गया था इसका मतलब कि 3500 ईसा पूर्व भारत में एक पूर्ण विकसित सभ्यता थी।

भारत का ‘धर्म’ ‍दुनियाभर में अलग-अलग नामों से प्रचलित था। अरब और अफ्रीका में जहां सामी, सबाईन, ‍मुशरिक, यजीदी, अश्शूर, तुर्क, हित्ती, कुर्द, पैगन आदि इस धर्म के मानने वाले समाज थे तो रोम, रूस, चीन व यूनान के प्राचीन समाज के लोग सभी किसी न किसी रूप में हिन्दू धर्म का पालन करते थे। ईसाई और बाद में इस्लाम के उत्थान काल में ये सभी समाज हाशिए पर धकेल दिए गए।
‘मैक्सिको’ शब्द संस्कृत के ‘मक्षिका’ शब्द से आता है और मैक्सिको में ऐसे हजारों प्रमाण मिलते हैं जिनसे यह सिद्ध होता है। जीसस क्राइस्ट्स से बहुत पहले वहां पर हिन्दू धर्म प्रचलित था- कोलंबस तो बहुत बाद में आया। सच तो यह है कि अमेरिका, विशेषकर दक्षिण-अमेरिका एक ऐसे महाद्वीप का हिस्सा था जिसमें अफ्रीका भी सम्मिलित था। भारत ठीक मध्य में था।
अफ्रीका में 6,000 वर्ष पुराना एक शिव मंदिर पाया गया और चीन, इंडोनेशिया, मलेशिया, लाओस, जापान में हजारों वर्ष पुरानी विष्णु, राम और हनुमान की प्रतिमाएं मिलना इस बात के सबूत हैं कि हिन्दू धर्म संपूर्ण धरती पर था।

प्रथम जीव और मानव की जन्मस्थली
कुछ विद्वान मानते हैं कि जब अफ्रीका, अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया एक थे तब भारत के एक हिस्से मात्र में डायनासोरों का राज था। लेकिन 50 करोड़ वर्ष पूर्व वह युग ‍बीत गया। प्रथम जीव की उत्पत्ति धरती के पेंजिया भूखंड के काल में गोंडवाना भूमि पर हुई थी। गोंडवाना महाद्वीप एक ऐतिहासिक महाद्वीप था। भू-वैज्ञानिकों के अनुसार लगभग 50 करोड़ वर्ष पहले पृथ्वी पर दो महा-महाद्वीप ही थे। उक्त दो महाद्वीपों को वैज्ञानिकों ने दो नाम दिए। एक का नाम था ‘गोंडवाना लैंड’ और दूसरे का नाम ‘लॉरेशिया लैंड’। गोंडवाना लैंड दक्षिण गोलार्ध में था और उसके टूटने से अंटार्कटिका, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिणी अमेरिका और अफ्रीका महाद्वीप का निर्माण हुआ। गोंडवाना लैंड के कुछ हिस्से लॉरेशिया के कुछ हिस्सों से जुड़ गए जिनमें अरब प्रायद्वीप और भारतीय उपमहाद्वीप हैं। गोंडवाना लैंड का नाम भारत के गोंडवाना प्रदेश के नाम पर रखा गया है, क्योंकि यहां शुरुआती जीवन के प्रमाण मिले हैं। फिर 13 करोड़ साल पहले जब यह धरती 5 द्वीपों वाली बन गई, तब जीव-जगत का विस्तार हुआ। उसी विस्तार क्रम में आगे चलकर कुछ लाख वर्ष पूर्व मानव की उत्पत्ति हुई।

धरती का पहला मानव कौन था?
जीवन का विकास सर्वप्रथम भारतीय दक्षिण प्रायद्वीप में नर्मदा नदी के तट पर हुआ, जो विश्व की सर्वप्रथम नदी है। यहां डायनासोरों के सबसे प्राचीन अंडे एवं जीवाश्म प्राप्त हुए हैं। भारत के सबसे पुरातन आदिवासी गोंडवाना प्रदेश के गोंड संप्रदाय की पुराकथाओं में भी यही तथ्य वर्णित है। गोंडवाना मध्यभारत का ऐतिहासिक क्षेत्र है जिसमें मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, आंध्रप्रदेश और महाराष्ट्र राज्य के हिस्से शामिल हैं। गोंड नाम की जाति आर्य धर्म की प्राचीन जातियों में से एक है, जो द्रविड़ समूह से आती है। उल्लेखनीय है कि आर्य नाम की कोई जाति नहीं होती थी। जो भी जाति आर्य धर्म का पालन करती थी उसे आर्य कहा जाता था।
पहला मानव : प्राचीन भारत के इतिहास के अनुसार मानव कई बार बना और कई बार फना हो गया। एक मन्वंतर के काल तक मानव सभ्यता जीवित रहती है और फिर वह काल बीत जाने पर संपूर्ण धरती अपनी प्रारंभिक अवस्था में पहुंच जाती है। लेकिन यह तो हुई धर्म की बात इसमें सत्य और तथ्य कितना है?
दुनिया व भारत के सभी ग्रंथ यही मानते हैं कि मानव की उत्पत्ति भारत में हुई थी। हालांकि भारतीय ग्रंथों में मानव की उत्पत्ति के दो सिद्धांत मिलते हैं- पहला मानव को ब्रह्मा ने बनाया था और दूसरा मनुष्य का जन्म क्रमविकास का परिणाम है। प्राचीनकाल में मनुष्य आज के मनुष्य जैसा नहीं था। जलवायु परिवर्तन के चलते उसमें भी बदलाव होते गए।

हालांकि ग्रंथ कहते हैं कि इस मन्वंतर के पहले मानव की उत्पत्ति वितस्ता नदी की शाखा देविका नदी के तट पर हुई थी। यह नदी कश्मीर में है। वेद के अनुसार प्रजापतियों के पुत्रों से ही धरती पर मानव की आबादी हुई। आज धरती पर जितने भी मनुष्य हैं सभी प्रजापतियों की संतानें हैं।

भारत की नृत्य शैली
प्राचीन भारती नृत्य शैली से ही दुनियाभर की नृत्य शैलियां विकसित हुई है। भारतीय नृत्य मनोरंजन के लिए नहीं बना था। भारतीय नृत्य ध्यान की एक विधि के समान कार्य करता है। इससे योग भी जुड़ा हुआ है। सामवेद में संगीत और नृत्य का उल्लेख मिलता है। भारत की नृत्य शैली की धूम सिर्फ भारत ही में नहीं अपितु पूरे विश्व में आसानी से देखने को मिल जाती है।
हड़प्पा सभ्यता में नृत्य करती हुई लड़की की मूर्ति पाई गई है, जिससे साबित होता है कि इस काल में ही नृत्यकला का विकास हो चुका था। भरत मुनि का नाट्य शास्त्र नृत्यकला का सबसे प्रथम व प्रामाणिक ग्रंथ माना जाता है। इसको पंचवेद भी कहा जाता है। इंद्र की साभ में नृत्य किया जाता था। शिव और पार्वती के नृत्य का वर्णन भी हमें पुराणों में मिलता है।
नाट्यशास्त्र अनुसार भारत में कई तरह की नृत्य शैलियां विकसित हुई जैसे भरतनाट्यम, चिपुड़ी, ओडिसी, कत्थक, कथकली, यक्षगान, कृष्णअट्टम, मणिपुरी और मोहिनी अट्टम। इसके अलावा भारत में कई स्थानीय संस्कृति और आदिवासियों के क्षेत्र में अद्भुत नृत्य देखने को मिलता है जिसमें से राजस्थान के मशहूर कालबेलिया नृत्य को यूनेस्को की नृत्य सूची में शामिल किया गया है।
मुगल काल में भारतीय संगीत, वाद्य और नृत्य को इस्लामिक शैली में ढालने का प्रासास किया गया जिसके चलते उत्तर भारती संगीत, वाद्य और नृत्य में बदलाव हो गया l

प्राचीन भारतीय खेलों की दुनिया में धूम
प्राचीन भारत बहुत ही समृद्ध और सभ्य देश था, जहां हर तरह के अत्याधुनिक हथियार थे, तो वहीं मानव के मनोरंजन के भरपूर साधन भी थे। एक ओर जहां शतरंज का आविष्कार भारत में हुआ वहीं फुटबॉल खेल का जन्म भी भारत में ही हुआ है। भगवान कृष्ण की गेंद यमुना में चली जाने का किस्सा बहुत चर्चित है तो दूसरी ओर भगवान राम के पतंग उड़ाने का उल्लेख भी मिलता है।

कहने का तात्पर्य यह कि ऐसा कोई-सा खेल या मनोरंजन का साधन नहीं है जिसका आविष्कार भारत में न हुआ हो। भारत में प्राचीनकाल से ही ज्ञान को अत्यधिक महत्व दिया गया है। कला, विज्ञान, गणित और ऐसे अनगिनत क्षेत्र हैं जिनमें भारतीय योगदान अनुपम है। आधुनिक युग के ऐसे बहुत से आविष्कार हैं, जो भारतीय शोधों के निष्कर्षों पर आधारित हैं।

दुनिया  की सबसे प्राचीन सभ्यता सिंधु-सरस्वती
प्राचीन दुनिया में कुछ नदियां प्रमुख नदियां थीं जिनमें एक ओर सिंधु-सरस्वती और गंगा और नर्मदा थीं, तो दूसरी ओर दजला-फरात और नील नदियां थीं। दुनिया की प्रारंभिक मानव आबादी इन नदियों के पास ही बसी थीं जिसमें सिंधु और सरस्वती नदी के किनारे बसी सभ्यता सबसे समृद्ध, सभ्य और बुद्धिमान थी। इसके कई प्रमाण मौजूद हैं। दुनिया का पहला धार्मिक ग्रंथ सरस्वती नदी के किनारे बैठकर ही लिखा गया था।
एक और जहां दजला और फरात नदी के किनारे मोसोपोटामिया, सुमेरियन, असीरिया और बेबीलोन सभ्यता का विकास हुआ तो दूसरी ओर मिस्र की सभ्यता का विकास 3400 ईसा पूर्व नील नदी के किनारे हुआ। इसी तरह भारत में एक ओर सिंधु और सरस्वती नदी के किनारे सिंधु, हड़प्पा, मोहनजोदड़ो आदि सभ्यताओं का विकास हुआ तो दूसरी ओर गंगा और नर्मदा के किनारे प्राचीन भारत का समाज निर्मित हुआ।
प्राप्त शोधानुसार सिंधु और सरस्वती नदी के बीच जो सभ्यता बसी थी वह दुनिया की सबसे प्राचीन और समृद्ध सभ्यता थी। यह वर्तमान में अफगानिस्तान से भारत तक फैली थी। प्राचीनकाल में जितनी विशाल नदी सिंधु थी उससे कई ज्यादा विशाल नदी सरस्वती थी।

शोधानुसार यह सभ्यता लगभग 9,000 ईसा पूर्व अस्तित्व में आई थी और 3,000 ईसापूर्व उसने स्वर्ण युग देखा और लगभग 1800 ईसा पूर्व आते-आते यह लुप्त हो गया। कहा जाता है कि 1,800 ईसा पूर्व के आसपास किसी भयानक प्राकृतिक आपदा के कारण एक और जहां सरस्वती नदी लुप्त हो गई वहीं दूसरी ओर इस क्षेत्र के लोगों ने पश्‍चिम की ओर पलायन कर दिया। पुरात्ववेत्ता मेसोपोटामिया (5000- 300 ईसापूर्व) को सबसे प्राचीन बताते हैं, लेकिन अभी सरस्वती सभ्यता पर शोध किए जाने की आवश्यकता है।

भारत में रहते थे एलियंस
प्राचीन अंतरिक्ष विज्ञान के संबंध में खोज करने वाले एरिक वॉन डेनिकन तो यही मानते हैं कि भारत में ऐसी कई जगहें हैं, जहां एलियंस रहते थे जिन्हें वे आकाश के देवता कहते हैं।
हाल ही में भारत के एक खोजी दल ने कुछ गुफाओं में ऐसे भित्तिचित्र देखे हैं, जो कई हजार वर्ष पुराने हैं। प्रागैतिहासिक शैलचित्रों के शोध में जुटी एक संस्था ने रायसेन के करीब 70 किलोमीटर दूर घने जंगलों के शैलचित्रों के आधार पर अनुमान जताया है कि प्रदेश के इस हिस्से में दूसरे ग्रहों के प्राणी ‘एलियन’ आए होंगे।
प्राचीन भारत के विमान और जहाज
प्राचीन भारत में एक ओर जहां आसमान में विमान उड़ते थे वहीं नदियों में नाव और समुद्र में जहाज चलते थे। रामायण काल में भगवान राम एक नाव में सफर करके ही गंगा पार करते हैं तो वे दूसरी ओर उनके द्वारा पुष्पक विमान से ही अयोध्या लौटने का वर्णन मिलता हैं। दूसरी ओर संस्कृत और अन्य भाषाओं के ग्रंथों में इस बात के कई प्रमाण मिलते हैं कि भारतीय लोग समुद्र में जहाज द्वारा अरब और अन्य देशों की यात्रा करते थे।
प्राचीन भारत के शोधकर्ता मानते हैं कि रामायण और महाभारतकाल में विमान होते थे जिसके माध्यम से विशिष्टजन एक स्थान से दूसरे स्थान पर सुगमता से यात्रा कर लेते थे। विष्णु, रावण, इंद्र, बालि आदि सहित कई देवी और देवताओं के अलावा मानवों के पास अपने खुद के विमान हुआ करते थे। विमान से यात्रा करने की कई कहानियां भारतीय ग्रंथों में भरी पड़ी हैं। यहीं नहीं, कई ऐसे ऋषि और मुनि भी थे, जो अंतरिक्ष में किसी दूसरे ग्रहों पर जाकर पुन: धरती पर लौट आते थे।
वर्तमान समय में भारत की इस प्राचीन तकनीक और वैभव का खुलासा कोलकाता संस्कृत कॉलेज के संस्कृत प्रोफेसर दिलीप कुमार कांजीलाल ने 1979 में एंशियंट एस्ट्रोनट सोसाइटी (Ancient Astronaut Society) की म्युनिख (जर्मनी) में संपन्न छठी कांग्रेस के दौरान अपने एक शोध पत्र से किया। उन्होंने उड़ सकने वाले प्राचीन भारतीय विमानों के बारे में एक उद्बोधन दिया और पर्चा प्रस्तुत किया।

प्राचीन अस्त्र और शस्त्र
ऐसा नहीं है कि मिसाइलों या परमाणु अस्त्र का आविष्कार आज ही हुआ है। रामायण काल में भी परमाणु अस्त्र छोड़ा गया था और महाभारत काल में भी। इसके अलावा ऐसे भी कई अस्त्र और शस्त्र थे जिनके बारे में जानकर आप आश्चर्य करेंगे। विज्ञान इस तरह के अस्त्र और शस्त्र बनाने में अभी सफल नहीं हुआ है। हालांकि लक्ष्य का भेदकर लौट आने वाले अस्त्र वह बना चुका है।

उदाहरण के तौर पर एरिक वॉन अपनी बेस्ट सेलर पुस्तक ‘चैरियट्स ऑफ गॉड्स’ में लिखते हैं, ‘लगभग 5,000 वर्ष पुरानी महाभारत के तत्कालीन कालखंड में कोई योद्धा किसी ऐसे अस्त्र के बारे में कैसे जानता था जिसे चलाने से 12 साल तक उस धरती पर सूखा पड़ जाता, ऐसा कोई अस्त्र जो इतना शक्तिशाली हो कि वह माताओं के गर्भ में पलने वाले शिशु को भी मार सके? इसका अर्थ है कि ऐसा कुछ न कुछ तो था जिसका ज्ञान आगे नहीं बढ़ाया गया अथवा लिपिबद्ध नहीं हुआ और गुम हो गया।’

भारतीय संगीत
संगीत और वाद्ययंत्रों का अविष्कार भारत में ही हुआ है। संगीत का सबसे प्राचीन ग्रंथ सामवेद है। हिन्दू धर्म का नृत्य, कला, योग और संगीत से गहरा नाता रहा है। हिन्दू धर्म मानता है कि ध्वनि और शुद्ध प्रकाश से ही ब्रह्मांड की रचना हुई है। आत्मा इस जगत का कारण है। चारों वेद, स्मृति, पुराण और गीता आदि धार्मिक ग्रंथों में धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष को साधने के हजारोहजार उपाय बताए गए हैं। उन उपायों में से एक है संगीत। संगीत की कोई भाषा नहीं होती। संगीत आत्मा के सबसे ज्यादा नजदीक होता है। शब्दों में बंधा संगीत विकृत संगीत माना जाता है।
प्राचीन परंपरा : भारत में संगीत की परंपरा अनादिकाल से ही रही है। हिन्दुओं के लगभग सभी देवी और देवताओं के पास अपना एक अलग वाद्य यंत्र है। विष्णु के पास शंख है तो शिव के पास डमरू, नारद मुनि और सरस्वती के पास वीणा है, तो भगवान श्रीकृष्ण के पास बांसुरी। खजुराहो के मंदिर हो या कोणार्क के मंदिर, प्राचीन मंदिरों की दीवारों में गंधर्वों की मूर्तियां आवेष्टित हैं। उन मूर्तियों में लगभग सभी तरह के वाद्य यंत्र को दर्शाया गया है। गंधर्वों और किन्नरों को संगीत का अच्छा जानकार माना जाता है।
सामवेद उन वैदिक ऋचाओं का संग्रह मात्र है, जो गेय हैं। संगीत का सर्वप्रथम ग्रंथ चार वेदों में से एक सामवेद ही है। इसी के आधार पर भरत मुनि ने नाट्यशास्त्र लिखा और बाद में संगीत रत्नाकर, अभिनव राग मंजरी लिखा गया। दुनियाभर के संगीत के ग्रंथ सामवेद से प्रेरित हैं।
संगीत का विज्ञान : हिन्दू धर्म में संगीत मोक्ष प्राप्त करने का एक साधन है। संगीत से हमारा मन और मस्तिष्क पूर्णत: शांत और स्वस्थ हो सकता है। भारतीय ऋषियों ने ऐसी सैकड़ों ध्वनियों को खोजा, जो प्रकृति में पहले से ही विद्यमान है। उन ध्वनियों के आधार पर ही उन्होंने मंत्रों की रचना की, संस्कृत भाषा की रचना की और ध्यान में सहायक ध्यान ध्वनियों की रचना की। इसके अलावा उन्होंने ध्वनि विज्ञान को अच्छे से समझकर इसके माध्यम से शास्‍‍त्रों की रचना की और प्रकृति को संचालित करने वाली ध्वनियों की खोज भी की। आज का विज्ञान अभी भी संगीत और ध्वनियों के महत्व और प्रभाव की खोज में लगा हुआ है, लेकिन ऋषि-मु‍नियों से अच्छा कोई भी संगीत के रहस्य और उसके विज्ञान को नहीं जान सकता।
प्राचीन भारतीय संगीत दो रूपों में प्रचलन में था-1. मार्गी और 2. देशी। मार्गी संगीत तो लुप्त हो गया लेकिन देशी संगीत बचा रहा जिसके मुख्यत: दो विभाजन हैं- 1. शास्त्रीय संगीत और 2. लोक संगीत।

शास्त्रीय संगीत शास्त्रों पर आधारित और लोक संगीत काल और स्थान के अनुरूप प्रकृति के स्वच्छंद वातावरण में स्वाभाविक रूप से पलता हुआ विकसित होता रहा। हालांकि शास्त्रीय संगीत को विद्वानों और कलाकरों ने अपने-अपने तरीके से नियमबद्ध और परिवर्तित किया और इसकी कई प्रांतीय शैलियां विकसित होती चली गईं तो लोक संगीत भी अलग-अलग प्रांतों के हिसाब से अधिक समृद्ध होने लगा।
बदलता संगीत : मुस्लिमों के शासनकाल में प्राचीन भारतीय संगीत की समृद्ध परंपरा को अरबी और फारसी में ढालने के लिए आवश्यक और अनावश्यक और रुचि के अनुसार उन्होंने इसमें अनेक परिवर्तन किए। उन्होंने उत्तर भारत की संगीत परंपरा का इस्लामीकरण करने का कार्य किया जिसके चलते नई शैलियां भी प्रचलन में आईं, जैसे खयाल व गजल आदि। बाद में सूफी आंदोलन ने भी भारतीय संगीत पर अपना प्रभाव जमाया। आगे चलकर देश के विभिन्न हिस्सों में कई नई पद्धतियों व घरानों का जन्म हुआ। ब्रिटिश शासनकाल के दौरान पाश्चात्य संगीत से भी भारतीय संगीत का परिचय हुआ। इस दौर में हारमोनियम नामक वाद्य यंत्र प्रचलन में आया।
दो संगीत पद्धतियां : इस तरह वर्तमान दौर में हिन्दुस्तानी संगीत और कर्नाटकी संगीत प्रचलित है। हिन्दुस्तानी संगीत मुगल बादशाहों की छत्रछाया में विकसित हुआ और कर्नाटक संगीत दक्षिण के मंदिरों में विकसित होता रहा।
हिन्दुस्तानी संगीत : यह संगीत उत्तरी हिन्दुस्तान में- बंगाल, बिहार, उड़ीसा, उत्तरप्रदेश, हरियाणा, पंजाब, गुजरात, जम्मू-कश्मीर तथा महाराष्ट्र प्रांतों में प्रचलित है।
कर्नाटक संगीत :  यह संगीत दक्षिण भारत में तमिलनाडु, मैसूर, कर्नाटक, आंध्रप्रदेश आदि दक्षिण के प्रदेशों में प्रचलित है।
वाद्य यंत्र : मुस्लिम काल में नए वाद्य यंत्रों की भी रचना हुई, जैसे सरोद और सितार। दरअसल, ये वीणा के ही बदले हुए रूप हैं। इस तरह वीणा, बीन, मृदंग, ढोल, डमरू, घंटी, ताल, चांड, घटम्, पुंगी, डंका, तबला, शहनाई, सितार, सरोद, पखावज, संतूर आदि का आविष्कार भारत में ही हुआ है। भारत की आदिवासी जातियों के पास विचित्र प्रकार के वाद्य यंत्र मिल जाएंगे जिनसे निकलने वाली ध्वनियों को सुनकर आपके दिलोदिमाग में मदहोशी छा जाएगी।
उपरोक्त सभी तरह की संगीत पद्धतियों को छोड़कर आओ हम जानते हैं, हिन्दू धर्म के धर्म-कर्म और क्रियाकांड में उपयोग किए जाने वाले उन 10 प्रमुख वाद्य यंत्रों को जिनकी ध्वनियों को सुनकर जहां घर का वस्तु दोष मिटता है वहीं मन और मस्तिष्क भी शांत हो जाता है।

MsnTarGet.com

Satish Kumar

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.