Articles by "Army"

2019 4G LTE 4G VoLTE 5G 7th Pay Commission Aadhaar Aarogya Setu Actor Wallpapers Actress Wallpaper Adriana Lima AdSense Ahoi Ashtami Airtel Airtel DTH Akshay Kumar Alcatel Alexa Rank Amazon Android Android Pie Android Q Anna university Antivirus Anushka Sharma apna csc online Apple Apps Army Army App Asthma Asus Atal Seva mirchpur Athletics Auto Auto Insurance Avengers Axis Bank Backlinks Badhajmi Bajaj Bang Bang Reloaded Bank Battery Bhai Dooj Katha Bhakti Bharti Bhumi Pednekar Big Bazaar Big TV Bing BlackBerry Blogger BlogSpot Bluetooth BoB Bollywood Boot Boxing Breathlessness Browser BSEH Bsnl Budget Budhvar Business buy Cable TV Camera Car Car Loan Card Less ATM Cash CBSE Celebrity CEO Chandra Grahan Channels Chest Pain Chhath chrome Clean WhatsApp Cache commandos Common Service Centres (CSC) Mirchpur Hisar Haryana - Front of Jyoti Sen Sec School Mirchpur Comparisons Computer Coolpad Corona Couples Chatting COVID 19 COVID 19 HARYANA Credit Cricket Crime CSC Cylinder Dama Dard Deepika Padukone Defence Detel Dhanteras Diamond Crypto DigiLocker App DigiPay App Digital India App Digital Indian Gov Dish TV Diwali DNS setting Domain Donate Doogee DTH DTH Activation DTH Installation DTH Plans in India Dusshera E-seva Kender mirchpur Earn Money Education Electronics Email Entertinment EPFO Ex-serviceman Extensions Facebook Fatigue Festivals FlicKr Flipkart Foldable Smartphone Food Foursquare Funny Gadgets Galaxy Galaxy S8 Game Ganesh ganesh chaturthi Gas Problems Gastric Problem Gharelu Gionee Gmail God Google Google + Google Assistant Google Drive Google Duo Google Pixel Google Tez Google Voice Google+ Govardhan Puja GroupMe GST GTA Guide GuruSatsang Guruvar Hamraaz hamraaz app hamraaz app download hamraaz army hamraaz army app hamraaz army app download Hamraaz Army App version 6 Apk Happy New Year Hariyali Teej Hartalika Teej Harvard University Haryana haryana csc online Haryana Yojana HDFC Bank Headphones Health Heart Attack Heart Fail Heart Problems Heart Stroke Heena Sidhu Hello App Help Hernia Hindi History Hockey Holi Holi Katha Hollywood Home Loan Honor HostGator Hosting Hrithik Roshan HTC Huawei humraaz app iBall IBM ICICI Bank Idea Ilaj India India Vs China Indian Army indian army app Indigestion Infinix InFocus Information Infosys Instagram Insurance Intel Internet Intex Mobile iPad iPhone iPhone 8 IPL IRCTC iVoomi Janmashtami Japanese Encephalitis Javascript JBL Jio Jio GigaFiber JioMart JioRail JioSaavn job Jokes Kamjori Karbonn Kareena Kapoor Kartik Purnima Karva Chauth Karwa Chauth Kasam Tere Pyaar Ki Katrina Kaif Kendall Jenner Keywords Kimbho Kisan Kisan Panjikaran Kodak Kumkum Bhagya Kushth Rog Landline Laptop Lava Lenovo Leprosy LET Lethargy LG Library of Congress Lifestyle Linkedin Lisa Haydon Livejournal Liver Cancer Loans Lockdown LPG Gas mAadhaar Macbook Maha Shivratri Makar Sankranti Map Market Mary Kom Massachusetts Institute of Technology Meizu Messages Mi Micromax Microsoft Milestone Military Power 2020 Mobile Modi Mokshada Ekadashi Money Motorcycles Motorola Movie MS Dhoni msn Muscle Pain Music Myspace Narendra Modi Narsingh Jayanti Nature Naukri Navratri Nemonia Netflix Network News Nexus Nia Sharma nokari Nokia Notifications Nuskhe OBC Ocean Office Offrs Ola Cab OMG OnePlus Online Opera Oppo Oreo Android Orkut OS OxygenOS Padmavati PagalWorld Pain Pain Sensation Pakistan PAN PAN Card Panasonic Passwords Patanjali Pay Payment Paypal Paytm PC PDF Peeda Pendrive Pension Personal Loan Pet Me Gas PF Phone Photo PHP Pila Bukhar Pinterest Pixel Plan PNB Bank Pneumonia PNR Poco Poster PPC Pradhan Mantri Kisan Samman Nidhi Pradhanmantri Kisan Samman Nidhi Yojna Pradosh Pragya Jaiswal Prepaid Princeton University Printer Priyanka Chopra PUBG Qualcomm Quora Quotes Race 3 Railway Rambha Tritiya Vrat RBI Realme Recruitment Redmi Relationship Reliance Reliance JioMart Religious Restore Results Review Rule Sai Dharam Tej Saina Nehwal Salman Khan Samsung Sanusha sarkariresult Satsang Video Sawan Somvar Vrat SBI Bank Script Sell SEO Serial Server Shabd Shahid Kapoor Shanivar Sharad Poornima Sharp Shiv Shopping Shreyasi Singh Shruti Haasan Signal Sim Smart Android TV Smartphones SMS Snapchat Social Software Somvar Sonakshi Sinha Sonam Kapoor Soney Songs Sony Xperia Space Speakers Specifications Sports Sql Stanford University State Bank of India Stickers Stomach Upset Story Sun Direct Sunny Leone Surabhi Sushant Singh Rajput Swadeshi Swas Rog Tata Sky Tax tec Tech Tech DNA TechDNA Technology Tecno Telegram Telugu Thakan Tiger Shroff Tiger Zinda Hai Tips Tiredness Tollywood Tool Top Trending People Trading Trai TRAI Rules for cable TV Trailer Treatment Trends True Things Truecaller Tubelight Tulsi Vivah Tumblr Tunes App Tv Twitter Typing Uber ulta chand Umang App University of Oxford UP Board Upay Upchar Update USA USB Vacancies Valentines Day Verizon Vertu Viber Video Videocon d2h Videos Vijayadashami Viral Bukhar Viral Fever Virat Kohli Virgin Visas Vivo VLE Vodafone Voter Card VPN Vrat Katha Vrat Vidhi Wallpaper War Wayback Machine Weakness WhatsApp WhatsApp Cleaner WhatsApp Status WhatsApp stickers Wi-Fi WiFi Windows Windows 10 Wipro Wireless WordPress workstation WWE Xiaomi Xiaomi Mi 6 Yeh Hai Mohabbatein Yellow Fever Yo Yo Honey Singh Yoga YotaPhone YouTube ZTE अजब-गजब की खबरें अपच अस्थमा आलस्य इलाज उपचार उपाय उमंग ऐप कहानियाँ कुष्ठरोग कोरोना वायरस गुरुसत्संग घरेलू जनधन जापानी इन्सेफेलाइटिस डिजिटल इंडिया डिजिटल इंडिया अप्प्स डिजिपे ऐप डिजीलॉकर ऐप थकान दमा दर्द निमोनिया नुस्ख़े पीड़ा पीतज्वर पीला बुखार पेट में गैस पैन कार्ड बदहज़मी भक्ति मांसपेशियों में दर्द लीवर कैंसर वायरल बुखार वोटर कार्ड शब्द सच्ची बातें सत्संग वीडियो समचार सीने में दर्द स्कीम स्वास रोग हर्निया हिंदी
Showing posts with label Army. Show all posts

 भारत ने स्‍वदेशी हथियार विकसित करने की दिशा में एक और कदम बढ़ा दिया है। भारत ने हाइपरसोनिक मिसाइल तकनीक विकसित कर ली है और सोमवार को रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने ओडिशा के बालासोर में एपीजे अब्दुल कलाम परीक्षण रेंज (व्हीलर द्वीप) से इसका सफल परीक्षण किया।

इसके साथ ही भारत हाइपरसोनिक मिसाइल तकनीक विकसित करने वाला अमेरिका, रूस और चीन के बाद चौथा देश बन गया है।


इस खबर में

निर्धारित पैरामीटर्स पर किया सफलतापूर्वक प्रदर्शन

यहां देखें परीक्षण का वीडियो

देश की एक प्रमुख तकनीकी सफलता

दुश्‍मन के एयर‍ डिफेंस सिस्‍टम को नहीं लगेगी भनक

सफल परीक्षण के क्या है मायने?

रक्षा मंत्री ने DRDO को दी बधाई

क्‍या होती है हाइपरसोनिक मिसाइल?

भारत ने विकसित की हाइपरसोनिक मिसाइल तकनीक, ऐसा करने वाला मात्र चौथा देश


परीक्षण निर्धारित पैरामीटर्स पर किया सफलतापूर्वक प्रदर्शन

'हिंदुस्तान टाइम्स' के अनुसार DRDO द्वारा विकसित हाइपरसोनिक टेक्‍नोलॉजी डिमॉन्‍स्‍ट्रेटर व्हीकल (HSTDV) का परीक्षण सुबह 11.03 बजे किया गया।

एक अधिकारी ने बताया, "अग्नि मिसाइल बूस्टर HSTDV को 30 किमी की ऊंचाई पर ले गया और फिर अलग हो गया। इसके बाद व्हीकल का एयर इनटेक खुला और स्क्रैमजेट इंजन बाहर निकल आया। व्हीकल ने सभी पूर्व-निर्धारित पैरामीटर्स पर सफल प्रदर्शन किया है। यह देश के लिए बड़ा दिन है।"


बयान देश की एक प्रमुख तकनीकी सफलता

DRDO चेयरमैन डॉ जी सतीश रेड्डी ने कहा, "यह देश की एक प्रमुख तकनीकी सफलता है। यह परीक्षण अधिक महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकियों, सामग्रियों और हाइपरसोनिक वाहनों के विकास का मार्ग प्रशस्त करेगा। इसने भारत को यह तकनीक रखने वाले चुनिंदा देशों में शामिल करा दिया है।"


ताकत दुश्‍मन के एयर‍ डिफेंस सिस्‍टम को नहीं लगेगी भनक

HSTDV हवा में आवाज की गति से छह गुना ज्‍यादा रफ्तार से दूरी तय करता है। दुश्‍मन देश के एयर डिफेंस सिस्‍टम को इसकी भनक नहीं लगेगी।

यह अपने साथ लॉन्‍ग रेंज और हाइपरसोनिक क्रूज मिसाइलें ले जा सकती है। इससे दुनिया के किसी भी कोने को घंटे भर में निशाना बनाया जा सकता है।

हाइपरसोनिक वेपन सिस्‍टम निर्धारित रास्‍ते पर नहीं चलता। दुश्‍मन को कभी अंदाजा नहीं लगेगा कि उसका रास्‍ता क्‍या है। रफ्तार इसकी सबसे बड़ी ताकत है।


मायने सफल परीक्षण के क्या है मायने?

HSTDV के सफल परीक्षण का मतलब है कि अब भारत के पास हाइपरसोनिक मिसाइल विकसित करने की क्षमता है।

DRDO अगले पांच साल में स्‍क्रैमजेट इंजन के साथ हाइपरसोनिक मिसाइलें तैयार कर सकता है। इनकी रफ्तार दो किलोमीटर प्रति सेकेंड से ज्‍यादा होगी। सबसे बड़ी बात ये है कि इससे अंतरिक्ष में सैटेलाइट्स भी कम लागत पर लॉन्‍च किया जा सकता हैं।

इसके अलावा भारत को अगली जेनरेशन की हाइपरसोनिक मिसाइल ब्रह्मोस-II तैयार करने में भी मदद मिलेगी।


बधाई रक्षा मंत्री ने DRDO को दी बधाई

इस मौके पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट कर DRDO और इसके वैज्ञानिकों को बधाई दी और कहा कि संस्थान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत के सपने को साकार करने में जुटा है।

उन्होंने ट्वीट किया, 'DRDO ने आज स्वदेशी रूप से विकसित स्क्रैमजेट प्रोपल्शन सिस्टम का उपयोग कर हाइपरसोनिक टेक्नोलॉजी डिमॉन्स्ट्रेटर व्हीकल का सफलतापूर्वक परीक्षण किया है। इस सफलता के साथ अब सभी महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकियां अगले चरण की प्रगति के लिए तैयार हो गई हैं।'


हाइपरसोनिक क्‍या होती है हाइपरसोनिक मिसाइल?

हाइपरसोनिक मिसाइल की रफ्तार आवाज से छह गुना अधिक होती है। यह दो प्रकार की होती हैं।

पहली हाइपरसोनिक क्रूज मिसाइलें और दूसरी हाइपरसोनिक ग्‍लाइड व्‍हीकल। फिलहाल अमेरिका, चीन और रूस के पास ही ऐसी मिसाइलें हैं। अमेरिका जहां परंपरागत पेलोड्स पर फोकस कर रहा है, वहीं चीन और रूस परंपरागत के अलावा न्‍यूक्लियर डिलीवरी पर भी काम कर रहे हैं।

दुनिया के किसी देश के पास फिलहाल इसका डिफेंस सिस्‍टम नहीं है। पेंटागन इस पर रिसर्च कर रहा है।

भारत और चीन के सैनिकों के बीच गलवान घाटी में 15 जून को हुए खूनी संघर्ष के बाद दोनों देशों ने वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर भारी संख्या में सेना की तैनाती कर दी है। इससे LAC के दोनों ओर तनाव बना हुआ है।

भारत ने 3,488 किलोमीटर लंबी LAC पर सैनिकों को तैनाती के साथ माउंटेन फोर्स को भी तैनात कर दिया है।

यह हिंसक झड़प उस समय शुरू हुई जब भारतीय सैनिक चीनी सैनिकों द्वारा लगाए टेंट को हटाने गए थे।

उस दौरान चीनी सैनिकों ने पत्थर, कंटीली रॉड और तारों से हमला कर दिया था। चट्टान टूटने से कुछ सैनिक नदी में गिर गए थे।  

हर भारतीय को यह विडिओ पूरा देखना है | Indian Army vs Chinese Army | India China Border Fight TechDNA



दोस्तों हमारे वीर सेनीक दुसमन से लोहा ले रहे है लेकेन कुछ देस के अंदर है बार बार ट्वीट करके देस की सेना को नीचा दिखने की कोसिस कर रहे है | उन लोगों से मेरा कहना है की इतनी उचाई पर हमारे सेनीक दुसमान की गर्दन और रीड की हड्डी तक को तोड़ रहे है जहा पर सास लेने की आक्सीजन भी बहुत कम है |
एसे लोगों से मेरा कहना है की एक बार उस उचाई पर चड़ कर ही देखा दे और उस के बाद ट्वीट करे उन देस के गदरों को पता चल जाएगा की सेना मे कितना दम है |
दोस्तों मेरा मानना है की एसे लोगों को नेता नहीं बनाना चाइए इनको सीदे गोली मार देनी चाहीय आप की राये काय हमे कमेन्ट बॉक्स मे बतये 

आज के इस Tech DNA की विडिओ मे हम बात करेगे 
1. चीनी सेना से हुई झड़प में शहीद हुए 20 भारतीय सैनिक के बारे मे 
2. चीन ने फिंगर-4 से लेकर आठ तक बढ़ाई सेना की मौजूदगी सैनिक के बारे मे
3. भारत ने चीन की योजना के खिलाफ क्या तैयारी की है 
4. भारतीय सैनिकों बल प्रयोग के क्या क्या आदेश दिए गए है 
5. भारत ने LAC पर तैनात की स्पेशल माउंटेन फोर्स के बारे मे 
6. भारत और चीन की बैठक में क्या होगा प्रमुख मुद्दा

15-16 जून की रात लद्दाख के गलवान घाटी में हुए खूनी संघर्ष की पूरी जानकारी अब सामने आने लगी है..मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 15 जून को गलवान घाटी में भारत औऱ चीन के जवानों के बीच 7 घंटे तक संघर्ष चला. जिसमें 3 बार खूनी झड़प हुई. India Today और Hindustan Times के मुताबिक झड़प की शुरुआत 15 जून को शाम 6 बजे हुई. उस समय कर्नल संतोष बाबू अपने 35 जवानों के साथ चीनी सैनिकों को इलाका खाली करने के लिए समझाने गए थे. जब चीनी सैनिकों से बातचीत हो रही थी तभी उन्होंने Commanding officer संतोष बाबू CO को धक्का दे दिया...इसी के बाद दोनों पक्षों में खूनी संघर्ष शुरू हो गया. भारतीय सेना चीनी PLA पर भारी पड़ी और उनके टैंट को उखाड़ फेंका और आग लगा दी । इसके बाद रात नौ बजे जब फिर से बात शुरू हुई तो चीनी सैनिकों ने पत्थर बरसाने शुरू कर दिए. इसी संघर्ष में कर्नल संतोष बाबू की सहीद हो गए. जिसके बाद कम संख्या में होने के बावजूद भारतीय सैनिकों ने जोरदार हमला बोला. इसके बाद रात 11 बजे भी चीनी सैनिकों से जोरदार खूनी संघर्ष हुआ. इस दौरान भारतीय सेना LAC पर चीनी सीमा में चली गई. चीनी सैनिकों ने 10 भारतीय जवानों को बंधक बनाया तो भारतीयों ने भी कई 01 चीनी Commander और चीनी सैनिकों को बंधक बनाया.

पूर्वी लद्दाख सीमा पर तनाव को बातचीत के जरिए सुलझाने की कोशिश के बीच अब चीन ने भारत को गीदड़भभकी दी है. चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने लिखा है कि इस बार युद्ध हुआ तो भारत का हाल 1962 से भी बुरा होगा. विश्लेषकों के हवाले से इमसें कहा गया है कि अगर भारत ने अपने यहां राष्ट्रवाद को काबू में नहीं किया और सीमा पर संघर्ष हुआ तो चीन की सेना भारतीय सेना पर हर मोर्चे पर भारी पड़ेगी. गलवान घाटी में हिंसक झड़प के दौरान 20 जवानों के शहीद होने से पूरे देश में चीन के खिलाफ प्रदर्शन हो रहे हैं, उधर पीएम मोदी ने भी सीमा पर सैनिकों को जरूरी एक्शन लेने की छूट दे दी है. जिसके बाद अब चीन ने बातचीत की अपील भी की और अब धमकी देने से भी बाज नहीं आ रहा है.

चीन ने फिंगर-4 से लेकर आठ तक बढ़ाई सेना की मौजूदगी
चीन ने पैंगोंग लेक के पास अपनी मौजूदगी को बढ़ा लिया है और फिंगर-4 से आठ तक भारी संख्या में सेना की तैनाती कर दी है और वायुसेना को भी सक्रिय रखा है।

सीमा पर चीनी विमानों को देखा जा सकता है। ऐसे में चीन की इस चाल के पीछे उसकी गलत मंशा दिखाई पड़ती है।

सूत्रों की माने तो चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) फिंगर-4 के पास आर्टिलरी और टैंक के साथ बड़ी संख्या में मौजूद हैं।

भारत ने चीन की योजना के खिलाफ यह की तैयारी
PLA की हरकत को देखते हुए भारत ने भी 3,488 किलोमीटर लंबी LAC पर सैनिकों को तैनात कर दिया है। वायुसेना के मदद से पूरी LAC की निगरानी की जा रही है।

इसी तरह नौसेना को भी पूरी तरह से तैयार रहने को कहा गया हैं। झिंगजैंग और तिब्बत क्षेत्र में भारत की सेना की स्थिति को मजबूत गकिया या है।

भारतीय सैनिकों को दिए गए बल प्रयोग के आदेश
सेना के एक अधिकारी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि भारतीय सेना के कमांडर्स को निर्देश दिए गए हैं कि यदि PLA ट्रूप गलवान घाटी पार करती है और पेट्रोल पोस्ट-14 पर हमला करती है तो वह उनका जवाब दे सकते हैं।

भारत ने LAC पर तैनात की स्पेशल माउंटेन फोर्स
भारत ने सुरक्षा के लिहाज से 3,488 किलोमीटर लंबी LAC पर स्पेशल माउंटेन फोर्स को भी तैनात कर दिया है।

यह फोर्स अधिक ऊंचाई वाले पहाड़ी क्षेत्रों में गश्त करने तथा किसी भी स्थिति से निपटने के लिए प्रशिक्षित है।

ऐसे में चीन की ओर से यदि पश्चिमी, मध्य या पूर्वी सेक्टरों अब कोई भी कदम उठाया जाता है तो यह फोर्स उसका करारा जवाब देगी। फोर्स को आवश्यक कोई भी कदम उठाने की आजादी भी दी गई है।

भारत की माउंटेन फोर्स की अगल है पहचान
भारत की माउंटेन फोर्स की एक अलग पहचान है। इसमें शामिल जवानों को गुरिल्ला युद्ध में प्रशिक्षित किया गया है। इस सेना ने करगिल युद्ध में भी अपनी उपयोगिता साबित की थी।

यह सपाट इलाकों में तैनात रहने वाले सैनिकों से बिल्कुल अलग होते हैं। इस फोर्स के पास अधिक ऊंचाई वाले क्षेत्रों में लड़ने का बेहतरीन कौशल है। यह सेना दशकों से उत्तराखंड, लद्दाख, अरुणाचल और सिक्किम के पहाड़ी क्षेत्रों में तैनात रही है।

चीन का रक्षा बजट सन 2020 में 179 अरब डॉलर था जबकि भारत का रक्षा बजट केवल 70 अरब डॉलर का है. इसके अलावा चीन के पास भारत से अधिक बड़ी सेना भी है. लेकिन सिक्के का दूसरा पहलू यह है कि भारत की सेना को पृथ्वी पर दुनिया की सबसे खतरनाक सेना माना जाता है. आइये इस Tech DNA video में भारत और चीन के बीच डिफेन्स ताकत की तुलना करते हैं.

भारत और चीन एशिया की दो महाशक्तियां मानी जातीं हैं. डोकलाम विवाद के कारण इन देशों के सम्बन्ध और भी कड़वे हो गए हैं. भारत, CPEC (China–Pakistan Economic Corridor) को लेकर पहले ही अपना ऐतराज जता  चुका है. चीन “स्ट्रिंग्स ऑफ़ पर्ल्स प्रोजेक्ट” के जरिये भारत को उसकी सीमा के भीतर चारों ओर से घेरने की कोशिश कर रहा है.

अब सवाल यह उठता है कि आखिर इन दोनों देशों में ज्यादा शक्तिशाली कौन है? 
आइये इस Tech DNA ke Video में यही जानने की कोशिश करते हैं कि इन दोनों देशों की सैन्य ताकत में किसका पलड़ा भारी है?

थल सेना में किसका पलड़ा भारी है?


इतना तो आप जानते हैं कि लड़ाई में क्रूरता और लड़ाई की कला आना बहुत ही जरूरी है. सब को पता  है कि चीन का सैनिक मौका पड़ने पर कुंगफू का इस्तेमाल कर सकता है, और बिना बन्दूक के लड़ सकता है, और किसी भी वस्तु को हथियार की तरह प्रयोग कर सकता है.
इसके अलावा चीनी सैनिक खाने के लिए अंडे मांस या अन्य पौष्टिक आहारों का इंतजार न करके जानवर, पशु-पक्षी, सांप-बिच्छू को खाकर अपना पेट भर सकते हैं और तो और वे मरे हुए सैनिकों को भी कच्चा खा सकते हैं. चीन के सैनिक ठन्डे इलाकों में भी आसानी से रह सकते है. चीनी सेना में मंगोल सैनिक हैं, जो दुनिया के सबसे क्रूर और खूंखार सैनिक हैं. भारत के ऊपर जब नादिरशाह और चंगेश खान ने आक्रमण किया था तो उनकी मुख्य ताकत उनकी सेना के मंगोल सैनिक ही थे.
दूसरी ओर यह बात भी किसी से नही छुपी है कि भारत के सैनिकों को पृथ्वी पर लड़ी जाने वाली लडाइयों के लिए दुनिया की सर्वश्रेष्ठ सेनाओं में गिना जाता है. “यह कहना गलत नही होगा कि यदि किसी सेना में अगर अंग्रेज अफसर हो, अमेरिकी हथियार हों और हिंदुस्तानी सैनिक हों तो उस सेना को युद्ध के मैदान में हराना नामुमिकन होगा.”
अब यह सवाल उठता है कि क्या भारत के सैनिक इतने क्रूर हैं और इतने अधिक तैयार हैं कि वे कुछ भी खाकर युद्ध में डटे रहेंगे. इसका उत्तर होगा नही. लेकन फिर भी भारत से जीतना चीन के लिए आसान नही होगा जानिए क्यों ?
INS विक्रमादित्य युद्धपोत
INS विक्रमादित्य युद्धपोत, पूर्व सोवियत विमान वाहक एडमिरल गोर्शकोव का नया नाम है. इस विमान वाहक पोत को 2013 में भारतीय नौसेना में शामिल किया गया था. इसकी लंबाई लगभग तीन फुटबॉल मैदानों तथा ऊंचाई लगभग 22 मंजिली इमारत के बराबर है.
इस पर कामोव-31, कामोव-28, हेलीकॉप्टर, मिग-29-K लड़ाकू विमान, ध्रुव और चेतक हेलिकॉप्टरों सहित तीस विमान और एंटी मिसाइल प्रणालियां तैनात होंगी, जिसके परिणामस्वरूप इसके एक हजार किलोमीटर के दायरे में दुश्मन के लड़ाकू विमान और युद्धपोत नहीं फटक सकेंगे. 

विक्रमादित्य में 1,600 लोगों को ले जाने की क्षमता है और यह 32 नॉट (59 किमी/घंटा) की रफ्तार से गश्त करता है और 100 दिन तक लगातार समुद्र में रह सकता है.

INS चक्र-2
आईएनएस चक्र-2, भारतीय नौसेना की नाभिकीय ऊर्जा से चलने वाली पनडुब्बी है. भारत ने इसे रूस से एक अरब डॉलर के सौदे पर लिया है. इसे 4 अप्रैल 2012 को विशाखापत्तनम में भारतीय सेना को सुपुर्द किया गया था. भारतीय नौसेना में शामिल यह पनडुब्बी परमाणु अटैक करने में सक्षम एक मात्र पनडुब्बी है.
यह पलक झपकते ही चीन और पाकिस्तान पर परमाणु हमला कर सकती है. यह पनडुब्बी 600 मीटर तक पानी के अंदर रह सकती है. यह तीन महीने लगातार समुद्र के भीतर रह सकती है. समुद्र में इसकी रफ्तार 43 किमी प्रति घंटा है.

भारत के सामने क्या चुनौतियाँ होंगी?
चीन के साथ की लड़ाई मैंदान की लड़ाई नहीं होगी, यह पहाड़ों की लड़ाई होगी, और पहाड़ों की लड़ाई में तोप और गोलों की जगह पैदल सेना का ज्यादा महत्त्व होता है. यहाँ पर चीन की सेना के पास एडवांटेज होगा क्योंकि वे हमसे ज्यादा ऊंचे स्थान पर बैठे होंगे.
भारत की लड़ाई चीन की सेना से कई मोर्चों पर होगी. यह लड़ाई पाकिस्तानी कश्मीर से फिर लद्दाख फिर तिब्बत, नेपाल, सिक्किम, भूटान, से होती हुई अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड, मिजोरम, त्रिपुरा, मणिपुर और बर्मा तक फैली होगी. यहाँ पर यह बात ध्यान में रखनी है कि बर्मा और म्यांमार दोनों ही चीन की गोद में बैठे हैं और भारत के खिलाफ लड़ाई में चीन का साथ देंगे.
तो क्या भारत के पास इतनी पैदल सेना (infantry) है की वह पूरे हिमालय क्षेत्र में उसे लगा सके और उसके पास गोला बारूद, तोपें, बंदूकें और खाने पीने का सामान इत्यादि पहुंचा सके. ध्यान रहे कि भारत के पास कुल एक्टिव सेना 13.25 लाख है. इसके विपरीत चीन की कुल आर्मी 23.35 लाख है और उसने पूरे हिमालय में अपनी सेना को लगा रखा है, और अपने सैनिकों को पूरी तरह तैयार कर रखा है.

इतना ही नही यदि चीन से लड़ाई शुरू होती है तो पाकिस्तान, भारत के खिलाफ एक अलग मोर्चा खोल देगा. सबसे खतरनाक हालात भारत के लिए तब पैदा होंगे जब नक्सली इस मौके का फायदा उठाकर लाल गलियारा स्थापित करने की कोशिश करेंगे. चीन और पाकिस्तान दोनों ही भारत के नक्सलियों को हथियार उपलब्ध कराते हैं. हाल में लातेहार में हुए नक्सली हमले में पाक निर्मित हथियार मिले थे जिससे नक्सली को पाकिस्तानी मदद की पुष्टि होती है.

भारतीय वायुसेना का आकलन  (Indian Air force Analysis)

अब अगर भारत की वायुसेना की ताकत की बात की जाये तो फिलहाल हमें चीन पर भी बढ़त हासिल है. चीन के विमान ऊंचाई वाले एयरबेस से उड़ान भरेंगे, वो कम ईंधन और हथियार लेकर ही उड़ सकेंगे. चीन के पास हवा में ईंधन भरने वाले विमान भी नहीं हैं, इसलिए चीन की वायुसेना के मुकाबले भारत की स्थिति बेहतर है.
हालाँकि इस समय भारतीय वायुसेना जिन लड़ाकू विमानों का इस्तेमाल कर रही है, उनमें से आधे अगले 9 सालों में रिटायर हो जाएंगे. इस समय वायुसेना के पास 35 फाइटर स्क्वाड्रन हैं. जबकि भारत सरकार ने 42 स्क्वाड्रन की मंजूरी दी हुई है जबकि जरूरत 45 स्क्वाड्रन की है.

भारत की वायुसेना चीन से बेहतर कैसे है? (How Indian Air force is better than China)
मिराज-2000, मिग-29, C-17 ग्लोबमास्टर मालवाहक विमान और लॉकहीड मार्टिन कंपनी का बनाया C-130J सुपर हरक्यूलिस मालवाहक विमानों के अलावा हिंदुस्तान पास सुखोई-30 जैसे लड़ाकू विमान हैं, जो तीन हजार किलोमीटर दूर तक मार कर सकते हैं और लगातार पौने चार घंटे तक हवा में रह सकते हैं.

इसके अलावा अब भारत के पास फ़्रांस का राफेल जेट विमान भी आने ही वाला है जो कि दक्षिण एशिया में युद्ध का नक्शा ही बदल देगा.
भारत को अमेरिका से 4 चिनूक हेलिकॉप्टर पहले ही मिल चुके हैं. चिनूक हेलीकॉप्टर से भारतीय सेना को हथियार आसानी से मुहैया करवाए जा सकेंगे और भारतीय सेना अपनी टुकड़ियों को दुर्गम और ऊंचे इलाकों में जल्दी पहुंचा सकेगी. यह हेलीकॉप्टर बहुत तेजी से उड़ान भरने में सक्षम है, यही वजह है कि यह बेहद घनी पहाड़ियों में भी सफ़लतापूर्वक काम कर सकता है.
भारत के पास ब्रह्मोस जैसी जबरदस्त मिसाइल भी है. इसकी रफ्तार 952 मीटर प्रति सेकेंड की है. इसके आगे दुश्मन के रडार भी फेल हो जाते हैं और अगर 30 किलोमीटर के दायरे में दुश्मन का रडार इनका पता भी लगा लेता है तो उससे कोई फर्क नहीं पड़ता क्योंकि उन्हें रोकने के लिए 30 सेकेंड से कम का ही समय होता है.
इस प्रकार सभी आकलन करने के बाद यह कहा जा सकता है कि यदि कुछ मोर्चों पर चीन का पलड़ा भारी है तो कुछ पर भारत का.
एक कडवी सच्चाई यह है कि ये दोनों देश पूरे विश्व के 2 चमकते हुए सितारे हैं इन दोनों की अर्थव्यवस्था पर ही विश्व की अर्थव्यवस्था टिकी हुई है. इसलिए विश्व के अन्य विकसित देश इन दोनों देशों के बीच युद्ध की किसी भी संभावना को ख़त्म करने में कोई कसर नही छोड़ेंगे जो कि विश्व में शांति और विकास के लिए सबसे जरूरी है. हमें उम्मीद है कि इन दोनों देशों के लीडर आपसी मुद्दों को बुलेट की नोक से नही बल्कि कलम की नोक से सुलझा लेंगे.

दोस्तों भारत और चीन की लड़ाई अगर होती है तो आप हमे कमेंट्स बॉक्स मे बताए की आप की राय मे किस का पलड़ा भारी रहेगा |
अगर आप हमारे चैनल मे नए है तो चैनल को सुबसक्रीब कर ले और सात मे घंटी को दबाय और विडिओ को लाइक करना मत भूले 
धन्यवाद 

1. सेना भर्ती रैली हिसार, जींद, फतेहाबाद जिलों के योग्य उम्मीदवारों के लिए आयोजित की जाएगी | 

2. हरियाणा में सिरसा 30 जुलाई 2020 से 08 अगस्त 2020 तक शहीद भगत सिंह स्टेडियम, सिरसा (हरियाणा) में।

3. ऑनलाइन पंजीकरण अनिवार्य है और 31 मई 2020 से 14 जुलाई 2020 तक खुला रहेगा। 

4. रैली के लिए एडमिट कार्ड 15 जुलाई 2020 से 29 जुलाई 2020 तक पंजीकृत ई-मेल के माध्यम से भेजा जाएगा। 

5. उम्मीदवारों को कार्यक्रम स्थल पर पहुंचना चाहिए एडमिट कार्ड में बताई गई तारीख और समय।

6. अधिक जानकारी के लिए इस विडिओ को देखे |

April 25, 2020 ,
हर युवा का सपना है कि वह भारतीय सेना का हिस्सा बनकर देश की सेवा करे। इस सपने को सच करने के लिए, सेना समय-समय पर देश भर के विभिन्न स्थानों पर सेना भर्ती रैली के माध्यम से अवसर प्रदान करती है। सेना भर्ती रैली के लिए उपस्थित होने के लिए कुछ बातों का ध्यान रखना आवश्यक है, उदाहरण के लिए पात्रता मानदंड, चयन प्रक्रिया, आदि।

Physical Fitness Test Full Video In Hindi


शारीरिक स्वास्थ्य परीक्षण Physical Fitness Test (PFT)

भारतीय सेना द्वारा जारी की जा रही विभिन्न भर्ती अधिसूचनाओं के अनुसार, रैली विभिन्न पदों के लिए आयोजित की जा रही है और इन सभी में कुछ निश्चित शारीरिक मानक परीक्षण (पीएसटी) हैं। सेना में नौकरी पाने के लिए फिजिकल स्टैण्डर्ड टेस्ट सबसे महत्वपूर्ण चरण है और इस परीक्षा को उत्तीर्ण करने की आवश्यकता है।

शारीरिक स्वास्थ्य परीक्षण (पीएफटी) निर्धारित करने के लिए, 100 अंक रखने वाले निम्नलिखित परीक्षण आयोजित किए जाते हैं:

1. 1.6 Km Run.
2. Pull Ups.
3. Balance.
4. 9 Feet Ditch.

MARKING SYSTEM IS AS FOLLOWS

1. 1.6 Km Run For all Categories.

S NoTimingsGroupMarks
(i)Upto 5 Mins 30 SecsGroup-I60 Marks
(ii)From 5 Mins 31 Secs to 5 Mins to 45 SecsGroup-II48 Marks
(iii)Above 5 Mins 45 SecsFail
(iv)Provisions for Extra Time for 1.6 Km Run in Hilly Terrain.
(aa) Between 5000 Ft to 9000 Ft - Add 30 Secs to all timings.
(ab) Between 9000 Ft to 12000 Ft - Add 120 Secs to all timings.

2. Pull Ups.

(i)10 and above40 Marks.
(ii)933 Marks.
(iii)827 Marks.
(iv)721 Marks.
(vi)616 Marks.
3. Balance. Should qualify and no marks are awarded.

4. 9 Feet Ditch. Should qualify and no marks are awarded.

6.Women Military Police Only


1. 1.6 Km Run.

S NoTimingsGroupMarks
(i)Upto 7 Mins 30 SecsGroup-I60 Marks
(ii)Upto 8 MinsGroup-II48 Marks
(iii)Above 8 Mins
Fail
2. Long Jump of 10 Feet - Should qualify

3. High Jump 3 Feet - Should qualify

6.Religious Teacher JCO

1. 1.6 Km Run.

S NoTimingsAge Gp 25 to 34 Years
(i)Upto 8 MinsReqd to qualify

(a) Provision for Extra Time for 1.6 Km Run in Hilly Terrain Area.

(i) Up to 5000 ft as above.

(ii) Between 5000 to 9000 ft - Additional 30 secs to all timings.

(ii) Between 9000 to 12000 ft - Additional 120 secs to all timings.

Download Hamraaz Army App version 6 Apk 2018 - 2019 Check Pay Slip, Service Information & Hamraaz Army App Helpline Number. Hamraaz Army Application Download, Hamraaz Army version 6 APK Download Latest Version 6 . Hamraaz Army APK Download for version 6 Android, iOS, Windows Phone. Hamraaz Army App for Check Payment, Hamraaz Mobile App Download APK. This ANDROID based mobile App has been developed exclusively for serving soldiers of Indian Army by the technical team of Army jawans (Adjutant General's Branch (MP-8) for communication of their service and pay related information to them on their mobile phones. This App can not be used by civilians.
Hamraaz Army App Latest version 6.0 (2019) Download
Hamraaz Army App Latest version 6.0 (2019) Download
New Features In Hamraaz Army App version 6 Apk
1. Vesion Hamraaz 6.0 App
 2. Features of individual Specific Notification
 3. Important Notification of common Interest
 4. Submission and Monitoring of Grievances
 5. Online chage of AFPP Fund and some additional features etc.

What Features are Added in Hamraaz Army App? ::

1. There will be no charge for the Hamraaz Mobile Application Download Apk and it is made freely available for all the soldiers.
2. Version 2.79 and 2.70 are available on the given link. The Major difference is that some security features are not up to the mark in 2.79 version whereas major bug fixes with the 2.70 version.
3. Are you wondering and looking for the tutors how to make use of the Hamraaz app, you don’t need to be as in this article you will find an easy and appropriate way to operate Hamraaz army app which helps you in easy managing option which are available with this Hamraaj army app download.

How to Download Hamraaz Army App? ::

1. Hamraaz army app is specially developed for serving soldiers and for normal citizens it has made not available and not given any permission to make use of this app even though Hamraaz App Free Download is available.
 2. In Google Play Store, you can’t find this app for downloading you can find this app in the website link mgov.gov.
3. So you need to sign up if you would like to see the details like Pay slips, salary details, and other salary related things.

4. Click the link stated above, then you need to save SD card or any other storage device.

5. Make Unknown source enable from the Android phone setting and thus find install operation instruction as once the Hamraaz Army App is downloaded

How to Operate and Use Hamraaz Army App? ::
1. So, there is the as simple way to operate as you Download Hamraaz Army App. First, the most thing you have to do is to sign up for this app.

2. While entering details for signing up, you have to enter valid Aadhar card details which is made mandatory for every Hamraaz app users.

3. There is also need to have some other details of Army-related terms which is also important for signing up for Hamraaz Army App.

4. So once Download Hamraaz Army APK File, and then activation is done, then you can have access to view Salary Slip, Salary Pay, Pay Slip and other payment details within the mobile.
How to Open Downloaded Payslip in Hamraaz App :: You need a special password to open your payslip. To know that password. See Below what is your password of the Hamraaz Army App.
Password and Username:: Hamraaz App Play Slip Password :: Pass of Hamraaz App is 8 digit. The 8 digit password consist of first 4 digit number is your first 4 digit number of pan card first 4 digits of your enrollment number :: For example, if your first four-digit of PAN card is ACUP and Enroll date is 13 March 2017 then finally your password will be ACU1303. That means default password will always have 8 alphanumerics

Password of Hamraaz App – Pay Slip Password :: You can even download Payslip where you need to sign in with the username and password given to you during the signup process after Download Hamraaz Army App. See below image for more details about Hamraaz army app.

Hamraaz Army App OTP and Password Problem Solved
Hamraaz Army App : Forgot password? Here’s the solutionIf you have forgotten your password, just click on “Forgot Password” option and then follow these simple steps:

After taping on “Forgot Password” you will be redirected to a page where you have to enter your Aadhaar number.

After that, you have to enter the date of enrollment in the form dd/mm/yyyy

Now you have to answer the security question. Make sure you answer the right answer provided by you at the time of signing up the process.

After providing all the necessary information, tap on proceed. it will take a second to verify the provided information. After that, you can enter a new password.
Hamraaz Army App : I don’t have Aadhaar registered number, now?If currently you are not using your Aadhaar registered number or have lost or not in use anymore, you can’t sign up. But don’t worry, you can register a new phone number by visiting the nearest Aadhaar Kendra. Remember these things:

Registering a new number with Aadhaar is an offline process. For this, you have to visit an authorized Aadhaar enrollment center.

While verifying your registered phone number is an online process. For this, you can visit the official website of UIDAI.

How to create a password?If you are facing any problem while creating a password, I will help you to do the same. Your password should contain at least one capital letter (A, B, C…), one small letter (a, b, c…), one numeric value (1, 2, 3…) and one special character (@, #, $…). After successfully creating the password, note it down and keep it confidential.

All the admins of Fun2Ind.com.com belong to the army background. We understand how much this app is important for you. But if you still face any problem, share it in commnet box below. Try to elaborate your problems in more specific manner. Do stay tuned with oneprmocode.com for further updates

Support & Helpline Number For Hamraaz Army App :: If you want to know more, (Official Hamraaz Army App support number). Alternatively, you can email on humraazmp8@gmail.com : Hi Dear Friends if Any Problem  Contact on Facebook https://www.facebook.com/fun2ind, download hamraaz army app, hamraaz army app download free, hamraaz army app update, hamraaz army app customer care number, hamraaz army app download free download, hamraaz army app download latest version, hamraaz army app latest version, hamraaz app 3.6 download, hamraaz app latest version, hamraaz app army, hamraaz app pay slip password, hamraaz app download free, hamraaz apps download, news about hamraaz app, hamraaz app indian army, hamraaz app, hamraaz army, hamraaz apps, hamraaz app download, hamraaz army app, download hamraaz army app, hamraaz indian army app, hamraaz app 3.6 download, hamraaz app DOWNLOAD HAMRAAZ ARMY APP BELOW DOWNLOAD LINK

Download Hamraaz App on iPhone Mobile?Currently, the app is unavailable on iPhone devices so you cannot down it right now. You can download and enjoy the full functions of this app only on Android devices.

Unable to Install Hamraaz App? (Install blocked from unknown sources error)
1. First of all, download the Hamraaz App from given link
2. Then go to settings
3. Now select Security Settings there
4. After that simply enable “Installation from unknown source”

Click Here Download Free Latest Version of Hamraaz Army App

After Indian Pilot Wing Commander Abhinandan Varthaman was taken into custody by Pakistani forces on Wednesday an old footage of the fighter pilot from 2011 has started making rounds on social media.

The footage shared is from a documentary where the said pilot can be seen getting introduced along with his fellow fighter pilots in a an Indian Air Force documentary  released on  May 16, 2011.  Fun2Ind.com

Who is Wing Commander Abhinandan Varthaman - All About Indian AirForce Wing Commander

Who is Wing Commander Abhinandan Varthaman - All About Indian AirForce Wing Commander
Who is Wing Commander Abhinandan Varthaman - All About Indian AirForce Wing Commander
According to reports, the detained Indian pilot is said to be the son of a retired Air Marshall and was flying an MiG 21 Bison jet on Wednesday that was shot down by Pakistan Air Force (PAF) with the pilot taken into custody.

Soon after the attack, a footage of the captive being questioned was also released where he can be heard saying: “My name is Wing Commander Abhinandan and my service number is 27981.”

"I am a flying pilot and my religion is Hindu [sic]," he adds further. soas.in

"May I request for a little information, sir? Am I with the Pakistani army?" he questioned while refusing to answer any additional probes.

He is married and has two kids. Ironically, Abhinandan's father was a consultant for the Mani Ratnam movie Kaatru Veliyidai in which the pilot hero was captured by Pakistan. 

Son of retired Air Marshal Simhakutty Varthaman, a highly decorated officer of the Indian Air Force, the MiG 21 Bison pilot lived in Madambakkam in south Chennai.  

His relative said Abhinandan's ancestral roots are in Thirupanamoor village which is 15km from Kancheepuram.

He is married and has two children, said the relative, adding that Abhinandan's father Air Marshal Varthaman stays in Selaiyur near Tambaram. mobask.com

Air Marshal Varthaman could not be reached. Ironically, he was a consultant for the Mani Ratnam movie Kaatru Veliyidai in which the pilot hero was captured by Pakistan. 

The Balakot airstrikes by India demolishing the terrorist camp run by Jaish-e-Mohammed, led to a retaliatory incursion by Pakistan, aimed at targeting Indian military installations this morning. IAF jets chased the Pakistani F-16 in the bargain, downing one of them. Unfortunately however, the IAF lost a Mig 21 to anti-aircraft fire from the ground. Only late in the afternoon did the MEA and IAF in a joint briefing confirm that a pilot was missing in action. msnTarGet.com

The missing pilot was identified as Wing Commander Abhinandan Varthaman and in a video which has gone viral, the blindfolded IAF pilot is seen bleeding from his forehead.

On being asked about his squadron, Wing Commander Abhinandan refuses to divulge any information in response. The son of an ex-IAF offficer, Wing Commander Abhinandan was a member of the elite SKAT-Surya Kiran Acrobatic Team, implying that he was a highly accomplished pilot.

अगर जंग में हमारे सारे सैन्य ठिकाने नष्ट भी हो गए तो अगला हमला यहां से करेगा भारत
पुलवामा आतंकी हमले के बाद अचानक भारत-पाकिस्तान में जंग का माहौल बनाया जा रहा है। भारत में लोग सरकार पर दबाव बना रहे हैं कि वो पाकिस्तान में बैठे आतंकियों को खत्म करें और सबक सिखाएं। वहीं, मीडिया रिपोर्ट्स के हवाले से खबर है कि पाकिस्तान ने जंग की तैयारी शुरू कर दी है। पाक सीमा पर तैनात टुकड़ियों के लिए युद्ध का सामान भेजने की योजना बना रहा है। अस्पतालों को भी मेडिकल सहायता तैयार रखने के लिए कहा गया है। बता दें कि पुलवामा हमले के बाद इमरान खान ने भारत पर उल्टा आराेप लगाया था कि वो जंग का माहौल बना रहा है और पुलवामा हमले की साजिश में शामिल होने का झूठा आरोप मढ़ रहा है। साथ इमरान ने धमकी देते हुए कहा कि अगर उन पर जंग थोपी गई तो हम भी पीछे नहीं हटेंगे। आइए जानते हैं भारत और पाकिस्तान की ताकत के बारे में... Fun2Ind.com

ndia vs Pakistan army comparison: भारत के बारे में ये जानकारी पढ़ने के बाद पाकिस्तान की जनता अपने पीएम इमरान खान को लगा देगी डांट

ndia vs Pakistan army comparison: भारत के बारे में ये जानकारी पढ़ने के बाद पाकिस्तान की जनता अपने पीएम इमरान खान को लगा देगी डांट
ndia vs Pakistan army comparison: भारत के बारे में ये जानकारी पढ़ने के बाद पाकिस्तान की जनता अपने पीएम इमरान खान को लगा देगी डांट

दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी आर्मी

- भारत की सेना दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी सेना है। दुनिया में सबसे बड़ी सेना चीन के पास है। उसके पास 22.60 लाख सैनिक हैं।
- ग्लोबल फायरपावर इंडेक्स 2018 के मुताबिक, भारत की सेना को दुनिया की चौथी सबसे ताकतवर सेना करार दिया गया है। उससे पहले सिर्फ तीन देश अमेरिका, रूस और चीन हैं। जबकि इस लिस्ट में पाकिस्तान की सेना का नंबर 17वां है। 
- भारत के पास 13.62 लाख सक्रिय सैनिक हैं। इसमें पैरामिलिट्री के सैनिकों की संख्या शामिल नहीं है। 
- जबकि पाकिस्तान की सेना सिर्फ 6.37 लाख है।

इतिहास का सबसे बड़ा रक्षा बजट

- इस बार के अंतरिम बजट 2019 में भारत का रक्षा बजट तीन लाख करोड़ रुपए के करीब रखा गया है। ये भारत के इतिहास का सबसे बड़ा रक्षा बजट है।
- दुनिया में हथियार खरीदने के मामले में भारत नंबर एक पर है। साल 2007 से 2018 के बीच भारत ने सात लाख करोड़ रुपए से ज्यादा के हथियार खरीदे हैं।

किसकी कितनी ताकत

एयरक्राफ्ट

भारत -2185
पाकिस्तान - 1281

अटैक एयरक्राफ्ट 

भारत- 804
पाकिस्तान- 410

टैंक्स

भारत-4426
पाकिस्तान- 2182

सबमरीन्स

भारत-16
पाकिस्तान- 5

बैलेस्टिक मिसाइल की ताकत

भारत के पास ब्रह्मोस मिसाइल है। इसकी रेंज 300 किमी है। ये एक क्रूज मिसाइल है। ये बिना पायलट वाले किसी भी लड़ाकू विमान की तरह होती है। ये जमीन की सतह से काफी करीब उड़ती है। दुश्मन के रडार इसे पकड़ नहीं पाते।

अग्नि 5

- ये इंटर कॉन्टिनेंटल बैलेस्टिक मिसाइल है। इसकी रेंज 5 हजार किमी है। ये पूर्व दिशा में चीन और फिलीपींस और पश्चिम में इटली तक मार कर सकती है। इसकी जद में पूरा पाकिस्तान, अफगानिस्तान, इराक, ईरान और करीब आधा यूराेप आता है। ये सिर्फ 20 मिनट में चीन पहुंच सकती है और तबाही मचा सकती है।
- वहीं, पाकिस्तान के पास लंबी दूरी के नाम पर सिर्फ शाहीन-2 मिसाइल है। इसकी रेंज सिर्फ ढाई हजार किमी है।

सुखोई फाइटर जेट 

- भारत का मॉडर्न फाइटर जेट एक बार में तीन हजार िकमी की उड़ान भर सकता है। दुनिया का सबसे अच्छा फाइटर जेट माना जाता है। इंडियन एयरफोर्स के पास इस वक्त 250 सुखोई विमान हैं।

तोप की ताकत

भारत के पास K9 वज्र और M-777 अल्ट्रा लाइटवेट हॉवित्जर्स हैं। 155 MM एक ऐसी आर्टिलरी गन है, जिसका वजन सिर्फ चार टन है और इसे कहीं भी ले जाना बेहद आसान है। ये एक मिनट में दो राउंड से लेकर 5 राउंड तक फायर कर सकती है। इसकी रेंज 24 किमी से 40 किमी तक है।
- K9 वज्र एक सेल्फ प्रोपेल्ड गन है। ये लगभग ऐसी होती है जैसे किसी बख्तरबंद टैंक पर तोप लगा दी जाए। इसमें पांच सैनिकों को क्रू होता है। इसकी स्पीड 67 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चल सकती है। रेंज 30 से 40 किमी है। ये दोनों की तोपें पहाड़ और दुर्गम इलाकों में गेम चेंजर साबित होती हैं।
- भारत K-4 SLBM मिसाइल का सक्सेसफुल टेस्ट कर चुका है। ये तीन हजार किमी तक वार कर सकती है। इसे किसी सबमरीन्स से भी फायर किया जा सकता है। 
- भारत के पास मौजूद मिराज, सुखोई, MIG-29, जगुआर और तेजस विमान से भी परमाणु हमला करने की दम रखता है। 
- वहीं, पाकिस्तान के ब्लैक पैंथर, ब्लैक स्पाइडर, F-16 में परमाणु हथियार लगाए जा सकते हैं।

सारे ठिकाने नष्ट होने के बाद भी भारत कर सकता है हमला

अगर पाकिस्तान, भारत पर परमाणु हमला करके उसके सभी ठिकाने नष्ट भी कर देता है तब भी भारत पाकिस्तान पर परमाणु हमला कर सकता है। क्योंिक भारत के पास
सेकंड स्ट्राइक कैपेबिलिटी है। भारत समंदर से परमाणु पनडुब्बी से हमला कर सकता है।

The Children Education allowance was introduced w.e.f. 1-9-2008 on the basis of the recommendation of 6th Central pay Commission (CPC). In the background of escalation of school fees, and other expenses connected with education of Children, the present scheme has been a big relief for the Government employees. Presently the allowance is admissible for two children, for studying in a recognised school upto XII standard. The maximum ceiling is stipulated at Rs.18000/- since this allowance had been hiked by 50% because of the DA component in salary having been crossed 100% on 1.1.2014.

What is Financial Assistance for Education of Children/ Widows of ESM (Ex-Service Men)- 2017?

This scheme is a modest step towards the betterment of lives of the families of ESM. This Scholarship is provided to the wards of ESM (Ex- Service men) as education assistance amounting to INR 1000 per month per child (upto two children). Widows of ESM are also provided this grant to pursue post-graduation degree. Target- Ex- 
Servicemen's wards and widows

CEA (Children Education Allowance) जो कि सेंट्रल गवर्मेंट के कर्मचारियों को बच्चो की शिक्षा के लिए प्रदान किया जाता है, डिफेंस पर्शन को पेंशन के बाद भी मिलता है। बहुत सारे रिटायर्ड डिफेंस पर्शन है जिनको इसके बारे में जानकारी नही है क्योकि पेंशन आते समय उन्हें इस प्रकार की स्कीम के बारे में नही बताया जाता तथा केंद्रीय सैनिक बोर्ड भी ऐसी स्कीमो का ज्यादा प्रचार नही करता है। चिल्ड्रन एजुकेशन अलाउंस डिफेंस पर्सन को 1000 रुपये प्रति महीना प्रति बच्चे के लिए मिलता है। CEA आप सिर्फ दो बच्चों के लिए क्लेम कर सकते है। ESM के लिए CEA अलाउंस Financial Assistance For Education of Children के अंतर्गत क्लेम किया जाता है।

HOW TO CLAIM CHILDREN EDUCATION ALLOWANCES POST RETIREMENT FOR ARMY/AIR FORCE/NAVY PERSONNEL

HOW TO CLAIM CHILDREN EDUCATION ALLOWANCES POST RETIREMENT (Ex-serviceman कैसे क्लेम करे Children Education Allowance), deputation allowance,allowance to defence personnel,risk and hardship allowances table,risk and hardship allowance,risk and hardship allowance order,dearness allowance,allowances,allowances in salary,how to sikhe,how to,central government employees,7th pay commission,ex servicemen welfare latest pension news,ex service man relief,ex service man benefits,ex servicemen latest news,ex-servicemen latest news
HOW TO CLAIM CHILDREN EDUCATION ALLOWANCES POST RETIREMENT (Ex-serviceman कैसे क्लेम करे Children Education Allowance), deputation allowance,allowance to defence personnel,risk and hardship allowances table,risk and hardship allowance,risk and hardship allowance order,dearness allowance,allowances,allowances in salary,how to sikhe,how to,central government employees,7th pay commission,ex servicemen welfare latest pension news,ex service man relief,ex service man benefits,ex servicemen latest news,ex-servicemen latest news

HOW AN EX-SERVICE MAN CAN AVAIL THIS FACILITY?

This facility can be availed in two ways. offline mode and online mode. To know this first know that this scheme comes under the heading of Financial Assistance for Education of Children/Widows of ESM (For School/College going Children of ESM upto Havildar)

Who can apply for this scholarship ? The Grant Criteria is as follows:

Applicant must be an ESM (Ex- Servicemen)/ widow/Orphan dependent
The rank of ESM should be of rank Havildar/equivalent and below
The child of ESM should have passed the previous class
The application should be recommended by respective Zila Sainik Board (ZSB)
The applicant should not be drawing education allowance from the State or his Employer

How can you apply ?

Step 1: Fill the online registration form by clicking on Apply Online Link to the respective Zila Sainik Board (ZSB).Step 2: Upload your image in jpeg/jpg/gif/png format (image should be less than 1 MB)
Step 3: Enter your personal details
Step 4: Enter details related to service in armed forces- Like Ex-Serviceman Id card,Type of Service of ESM, Rank of ESM, concerned RSB, ZSB with which Registered, Aadhar Card Number, Date of Enrollment, Date of Discharge, etc. This completes Part 1 of the application
Step 5: Part 2 of the application has residencial details and bank account details which need to be filled
Step 6: Enter the verification code required to submit the form
Step 7: After submission of the form, please follow the further steps as instructed on the website

Eligibility Of ESM for claiming CEA

CEA के लिए अप्लाई करने वाला व्यक्ति Exservicemen, widow या उसके orphan dependent होने चाहिए।
आप जिस कक्षा के लिए CEA क्लेम कर रहे हो वो बच्चे ने पिछले वर्ष पास की होनी चाहिए मतलब 2018 में आप 2017 – 18 सेशन का Childern Education Allowance क्लेम कर सकते है।
अप्लाई करने वाला ESM का रैंक हवलदार या उससे कम होना चाहिए और नेवी में पेट्टी अफसर तथा एयरफोर्स में सर्जेंट या उससे कम होना चाहिए।
एजुकेशन अलाउंस की एप्लीकेशन जिला सैनिक बोर्ड (ZSB) द्वारा रिकमेंड की जानी चाहिए।
एप्लिकेंट को राज्य सरकार या अन्य किसी एम्प्लायर से एजुकेशन अलाउन्स क्लेम नही किया जाना चाहिए।
ऊपर दी गयी एलीजिबिलिटी अनुसार आप CEA क्लेम कर सकते है अब हम आपको बताएंगे कि Education Allowance क्लेम करने के लिए आपको कोन कोन से डॉक्यूमेंट चाहिए।

INANCIAL ASSISTANCE FOR EDUCATION OF CHILDREN/WIDOWS OF ESM

1. Background. This scheme to provide financial assistance to ESM and their widows for helping them in educating their wards was started in 1981 with an amount of Rs 15/- per child per month for a maximum of three children up to Class XII. This scheme was last revised in Oct 2011 into a monthly grant of Rs 1000/- per month per child (for maximum two children) up to graduation and also for widows to pursue Post Graduation degree.

2. Aim. Aim of this scheme is to provide scholarship to up to a maximum of two dependent children of ESM or their widows, up to the ranks of Havildar in the Army and equivalent in the Navy and Air Force, and to widows for post graduation degree course.

3. Financial Assistance. For education is provided out of AFFD Fund @ Rs.1000/- per month per head (up to max two children) of eligible ESM and their widows, for the previous academic year, payable in one installment in a financial year. This is applicable for classes 1 to 12 of school and undergraduate classes of a degree college. This grant is also admissible to widows who wish to pursue 2-year post graduate degree. This grant is not applicable for any of the professional or technical courses/degrees.

4. Eligibility Conditions. The following criteria must be fulfilled to avail this grant:-
(a) Applicant must be an ESM/ widow/Orphan dependent..
(b) Should be of rank Havildar/equivalent and below.
(c) The child should have passed the previous class.
(d) Should be recommended by respective Zila Sainik Board (ZSB).
(e) Should not be drawing education allowance from the State or his Employer.

Ex-serviceman कैसे क्लेम करे Children Education Allowance

Documents required for education allowance (ESM)

एक्ससर्विसमैन की Service book/ Discharge book (उस पेज की कॉपी जिसमे एक्ससर्विसमैन का पर्सनल नंबर, रैंक तथा नाम, सर्विस डिटेल्स तथा फैमिली डिटेल्स दिया हो)
ज़िला सैनिक बोर्ड द्वारा जारी किया हुआ एक्ससर्विसमैन आइडेंटिटी कार्ड/ विडो कार्ड।
जिस क्लास का एजुकेशन अल्लाउन्स आप क्लेम कर रहे हो उस क्लास की मार्कशीट तथा स्कूल प्रोग्रेस रिपोर्ट।
पार्ट 2 आर्डर की कॉपी जिसमे बच्चे का नाम तथा जन्मतिथि दी हुई हो या डिस्चार्ज बुक की कॉपी जिसमे बच्चे की डिटेल्स दी हुई हो।
ESM को एक सर्टिफिकेट भी देना है की वह राज्य सरकार या अन्य किसी सोर्स से चिल्ड्रन एजुकेशन अल्लाउन्स क्लेम नही कर रहा है।
आधार कार्ड की कॉपी।
बैंक एकाउंट की डिटेल्स। बैंक एकाउंट नंबर IFSC कोड के साथ दे। बैंक एकाउंट नंबर केवल SBI तथा PNB का ही दे।
Children Education Allowance आप केवल कक्षा 1 से लेकर 12वी तक क्लेम कर सकते है या डिग्री कॉलेज की अंडरग्रेजुएट क्लास तक क्लेम कर सकते है।
एप्लीकेशन फॉरमेट आप ऑनलाइन डाउनलोड कर सकते है 

5. Application. Application should be made on the prescribed application form with recommendation of concerned Zila Sainik Welfare Officer (ZSWO) on it. A specimen application form is placed as Annexure 1. Copies of the following documents duly attested by the respective ZSWO must accompany the application:-
(a) Complete Discharge Book/Documents.
(b) ESM or Widow I-Card issued by respective ZSB.
(c) Mark-sheet / School Progress Card of child/children.
(d) Part –II Order mentioning names of the child(ren) for which grant is sought or there should be a proper entry to this effect in the Discharge Book/Documents.
(e) A certificate from applicant saying that he/she has not taken any money/grant from the state or present employer in the form of education allowance or scholarship.
(f) Details of Bank A/c No (in PNB/SBI only) and IFS Code.
(g) Aadhar Card copy

6. Channel of Application. The application for the just concluded academic year must be submitted by an eligible ESM / their widows to respective ZSB in the month of May for non board classes, in Jul for the board classes 10th & 12th and in Aug for under-graduate course students. ZSWO will scrutinize the applications and if found correct, will forward (hard copy and its requisite data in digital form) directly to the KSB Sectt by 31 July, 30 Sep and 31 Oct
respectively for payment in the current financial year.Old cases will not be accepted,

7. Processing at KSB. On receipt at the KSB Sectt, the applications will be filed in order of receipt. The Section-in-Charge will assign them file to the designated clerk who will enter/check data of the applications into computer. Another clerk will be designated to check correctness of the entries and eligibility of applicants. Section-in-Charge will also check the same and put up to JD(Welfare). Such applications in a lot pertaining to AFFDF will be moved for approval of the competent authority preferably on a quarterly basis.

8. Payment Procedure. After approval of the applications, the same will be processed for payment by the Welfare Section. After verifying the service number, name, bankers, IFS Code and account number of the applicants, Welfare Section will forward the approved list to the Accounts Section for payments, which will release the payments via ECS to the beneficiaries.

9. Subsequent Grants. Fresh application is required to be made for all the subsequent academic years provided the child(ren) has/have satisfactorily advanced to the next class. Subsequent application should also be submitted through ZSB in the month of May. ZSB will forward all the applications to KSB Sectt by 31 July (and 30 Sep for the college students) each yearfor consideration in the current financial year.

10. Jt Dir (Welfare) will put up the list of approved applicants and their payment status whenever made on to the website (www.desw.gov.in)

IMPORTANT FOR YOU

hence, you are aware of the procedure now, you can do it yourself. Just to make some points more clear, just visit www.ksb.gov.in and you can fill the form online. You just need to register with your service details and once you confirm your email, you will be given a password to log in. Your email is your user ID. The procedure is very simple. Anyone can do this.

After you login click on New Application
HOW TO CLAIM CHILDREN EDUCATION ALLOWANCES POST RETIREMENT (Ex-serviceman कैसे क्लेम करे Children Education Allowance)
HOW TO CLAIM CHILDREN EDUCATION ALLOWANCES POST RETIREMENT (Ex-serviceman कैसे क्लेम करे Children Education Allowance)
Just follow this image for further guidance.
HOW TO CLAIM CHILDREN EDUCATION ALLOWANCES POST RETIREMENT (Ex-serviceman कैसे क्लेम करे Children Education Allowance)
HOW TO CLAIM CHILDREN EDUCATION ALLOWANCES POST RETIREMENT (Ex-serviceman कैसे क्लेम करे Children Education Allowance)
Next your form will appear in front of you. Just fill all required details. Make sure you have all the scanned copies of the following documents. Remember, the size of the scanned copies should no way be more than 1MB. However, you can convert them to PDF format if the JPG files size is more then 1MB.

1. Service Document/Discharge Book of ESM (Page that contains ESM/Personal Particulars,Service Particulars and Family Particulars )
2. Identity Card of ESM/Widows
3. Mark-sheet / School Progress Card of child/children (For Child 1)
4. Mark-sheet / School Progress Card of child/children (For Child 2)
5. Details of Bank A/c No (in PNB/SBI only) and IFS Code (Upload First page of Passbook/ Cancelled Cheque)
6. Aadhar Card copy
7. Order mentioning names of the child(ren) for which grant is sought or there should be a proper entry to this effect in the Discharge Book/Documents
8. A certificate from applicant saying that he/she has not taken any money/grant from the state or present employer in the form of education allowance or scholarship. 

Once you have uploaded all the documents, recheck everything. because once you submit the form, after that you will not be able to make any changes. Once you are assured that everything is correct just click on the button at the bottom “Save and Forward“. Once you do this, you will see this type of message in your dashboard.
HOW TO CLAIM CHILDREN EDUCATION ALLOWANCES POST RETIREMENT (Ex-serviceman कैसे क्लेम करे Children Education Allowance)
HOW TO CLAIM CHILDREN EDUCATION ALLOWANCES POST RETIREMENT (Ex-serviceman कैसे क्लेम करे Children Education Allowance)

Now you have to wait untill it is approved by the Zilla Sainik Board. Once it is approved, you have to take a print out of it and send it either by post or personally you can visit your Regional Sainik Board to submit the hard copy of the form with all supporting documents.

IMPORTANT: Don’t forget to take all originals with you if you are visiting personally.

It will take some time to process your application at RSB and the amount will directly credited to your given bank account.

I believe I have clarified all your doubts from my end and I have tried my best to answer your probable doubts. If still you have any doubts, the comment box is all yours to ask your queries and i will be happy to reply you in shortest possible time.

PLEASE NOTE, IF YOU DO IT ONLINE, YOU SAVE A LOT OF TIME, MONEY. IF YOU WANT TO DO IT OFFLINE, YOU ARE REQUIRED TO SPEND A DECENT MONEY ON YOUR TRAVEL, POSTAL AND MANY OTHER UNFORESEEN SITUATIONS APART FROM THE TIRESOME TRAVEL. SO I SUGGEST YOU TO DO IT ONLINE.

इसके अतिरिक्त आप एप्लीकेशन फॉर्म केंद्रीय सैनिक बोर्ड की ऑफिसियल वेबसाइट से डाउनलोड कर सकते है। एप्लीकेशन डाउनलोड करने के पश्चात आपको इसे ठीक तरीके से भरना है तथा ऊपर बताये गए सभी डॉक्यूमेंट के साथ ज़िला सैनिक बोर्ड में ऑनलाइन सेंड करनी है। इसके पश्चात ज़िला सैनिक बोर्ड एप्लीकेशन की डिटेल्स को वेरीफाई करता है तथा राज्य सैनिक बोर्ड को फारवर्ड कर देता है। उसके पश्चात CEA की एप्लीकेशन केंद्रीय सैनिक बोर्ड में जांचने के बाद अप्परुव की जाती है।

एप्लीकेशन ऊपर बताये गए शेड्यूल के अनुसार महीने के शुरू से जिला सैनिक बोर्ड में भेज सकते है। CEA क्लेम करने का लास्ट कट ऑफ महीना नवंबर है उसके बाद कोई भी एप्लीकेशन एक्सेप्ट नही की जाती।

यदि आपको इससे सम्बन्धित कोई भी सवाल या डाउट हो तो आप कमेंट करके पूछ सकते है।

आपसे निवेदन है कि इसे अपने सभी एक्ससर्विसमैन भाइयो के साथ शेयर करे ताकि सभी इस सुविधा का लाभ उठा सके।

जय हिंद जय भारत
JAI HIND! JAI BHARAT!

MsnTarGet.com

Satish Kumar

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.