कोरोना वायरस के संकट और लॉकडाउन के बीच एक अजीबो-गरीब मामला सामने आया है, जिसके बारे में जानकर हर कोई हैरान है।

दरअसल, दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' को बेचने के लिए OLX पर एक विज्ञापन डाला गया है।
इस विज्ञापन में 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' को 30 हजार करोड़ रुपये में बेचने के लिए रखा गया। हालांकि, कंपनी ने विज्ञापन पोस्ट होने के थोड़ी देर बाद ही उसे हटा दिया। आइए जानें क्या है मामला।

विज्ञापन में 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' बेचने का कारण भी बताया

olx वेबसाइट पर दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' को बेचने का विज्ञापन निकला था।

केवडिया पुलिस स्टेशन के अधिकारियों के मुताबिक, किसी अनजान व्यक्ति ने शनिवार को यह विज्ञापन दिया था और 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' की तस्वीर के साथ 30 हजार करोड़ रूपये की कीमत रखी थी।

इतना ही नहीं, पोस्ट के विवरण में लिखा गया था कि गुजरात सरकार को कोरोना वायरस के हालत से लड़ने के लिए मेडिकल उपकरणों के लिए पैसों की जरूरत है।

विज्ञापन से देश की जनता की भावना को आहत

मामले के सामने आने के बाद से प्रशासन भी हरकत में आ गया, जिसके चलते उन्होंने मामला केवड़िया कॉलोनी पुलिस थाने में शिकायत दर्ज करवा दी है।

प्रशासन ने अज्ञात शख्स और olx कंपनी के खिलाफ मामला दर्ज करवाया है।

'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' के उपमुख्य प्रशासक नीलेश दूबे ने बताया कि विश्व में यह प्रतिमा एकता का प्रतीक है। ऐसे में यह विज्ञापन देश की जनता की भावनाओं को भड़काने का प्रयास दुर्भाग्यपूर्ण है।

इन धाराओं के तहत मामला दर्ज 

olx पर विज्ञापन पोस्ट करने वाले अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ IPC की धारा 505 (अफवाह फैलाने), धारा 417 (धोखाधड़ी), धारा 469 (जालसाजी) और अन्य संबंधित धाराओं के साथ FIR दर्ज कर दी गई है।

विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा है 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी'

गुजरात के सरदार सरोवर बांध के पास केवड़िया में सरदार वल्लभभाई पटेल की विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा स्थापित है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 31 अक्टूबर, 2018 को इसका उद्घाटन किया था

'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' 182 मीटर ऊंची प्रतिमा है, जिसका डिजाइन भारतीय मूर्तिकार राम वी सुतार ने तैयार किया था। अब तक इसे देखने दुनिया भर से लाखों लोग पहुंच चुके हैं।